अन्तिमोपाय निष्ठा – 1 (आचार्य वैभव और शिष्य लक्षण का प्रमाण)

श्री:  श्रीमते शठकोपाय नमः  श्रीमते रामानुजाय नमः  श्रीमद्वरवरमुनये नमः  श्री वानाचल महामुनये नमः

अन्तिमोपाय निष्ठा

श्रीमद्वरवरमुनि का तनियन्  (भगवान् श्रीमन्नारायण (पेरिय पेरुमाळ्) द्वारा)

श्रीशैलेश दयापात्रं दीभक्त्यादि गुणार्णवं।
यतीन्द्र प्रवणं वन्दे रम्यजामातरं मुनिम् ।।

वानमामलै/तोताद्रि जीयर् का तनियन् (दोड्डयङ्गार् अप्पै द्वारा)

रम्य जामातृ योगीन्द्र पादरेखामयं सदा ।
तथा यत्तात्म सत्ताधिं रामानुज मुनिम् भजे।।

भट्टनाथ मुनि (परवस्तु पट्टर्पिरान् जीयर्) का तनियन्

रम्य जामात्रु योगीन्द्र पाद सेवैक धारकम् ।
भट्टनाथ मुनिम् वन्दे वात्सल्यादि गुणार्णवं ।।

कान्तोपयन्तृयमिनः करुणामृदाब्देः
कारुण्यशीतल कटाक्ष सुधानिधानं ।
तन्नाम मन्त्र कृत सर्वहितोपदेशम्
श्रीभट्टनाथमुनिदेशिकमाश्रयामि ।।

उपनिषदमृद्ब्धेरुद्धृदाम् सारविद्भि: मधुरकविमुखैस्तां अन्तिमोपाय निष्ठां ।
उपदिशति जनेभ्यो यो दयापूर्णदृष्टि: भजहृदय सदा त्वम् भट्टनाथं मुनीन्द्रं ।।

रुचिर वरमुनीन्द्रेणातरेणोपतिष्ठां अकृत कृतिवरिष्ठां अन्तिमोपाय निष्ठां ।
तमिह निखिल जन्तु उत्तरणोत्युक्तचित्तम् प्रतिदिनं अभिवन्दे भट्टनाथं मुनीन्द्रं ।।

नमोस्तु भट्टनातथाय मुनये मुक्तिदायिने ।
येनैवं अन्तिमोपायनिष्ठा लोके प्रतिष्ठिता ।।

तातोन्ऱुम् तार्बुयत्तान् मणवाळ मुनि तनदु
पादम् परवुम् पट्टर्पिरान् मुनि पल्कलैयुम्
वेदङ्गळुम् चिल पुराणङ्गळुम् तमिळ् वेदियरुम्
ओदुम् पोरुळ् अन्तिमोपाय निष्ठै उरैत्तवने !

*****************************************************

अनुवादक का टिप्पणीः ग्रन्थ यहाँ से प्रारम्भ होता है

अन्तिमोपाय निष्ठाया वक्ता सौम्यवरो मुनिः ।
लेखकस्यान्वयो मे अत्र लेखनीतालपत्रवत् ।।

(इस) अन्तिमोपाय निष्ठा ग्रन्थ के वक्ता श्रीमद्वरवरमुनि (सौम्यवरमुनि) है और यहाँ (इस ग्रन्थ के सन्दर्भ में) यह दास केवल एक लेखनी और तालपत्र है ।

एन्तै मणवाळ योगि एनक्कुरैत्त
अन्तिमोपाय निष्ठैयामतनैच्
चिन्तै चेय्तु इङ्गेल्लारुम् वाऴ एऴुति वैत्तेन् इप्पुवियिल्
नल्लऱिवोन्ऱिल्लात नान्

मेरे आध्यात्मिक पिता श्री वरवरमुनि द्वारा प्रदत्त अन्तिमोपाय निष्ठा ग्रन्थ के दिव्य निर्देशों पर विचार करने के पश्चात्, मैं (जो बहुत पढा नहीं हूँ) ने समस्त जीवों के लाभ के लिए, (इस) ग्रन्थ को लिपिबद्ध किया है ।

(भट्टनाथ मुनि ने श्री वरवरमुनि के उपदेश रत्न माला का द्वितीय पासुर को उद्धृत करते है)

कर्त्तोर्गळ् तामुगप्पर् कल्वि तन्निल् आचैयुळ्ळोर्
पेत्तोम् एन उगण्तु पिन्बु कर्पर्
मत्तोर्गळ् माच्चर्यत्ताल् इगऴिल् वन्ततेन् नेन्जे
इगऴ्गै आच्चर्यमो तान् अवर्क्कु

शिक्षित विद्वान इस कार्य को देखकर प्रसन्न होंगे, जो सीखने में दिलचस्पी रखते हैं वह प्रसन्न होगा और इस विषय को सीखेंगे । दूसरें, ईर्ष्या से, इस काम का अपमान कर सकते हैं, लेकिन क्या यह आश्चर्यजनक है कि वे इस कार्य का अपमान करते रहेंगे ? (ऐसा नहीं है, क्योंकि वे इस विषय की महिमा को समझने के लिए पर्याप्त परिपक्व नहीं हैं)।

इस भौतिक संसार में जो दु:ख पूरित है, प्रत्येक जन्म और मृत्यु के काल-चक्र में फसता है। ऐसा कहा जाता है कि हमारे छोटे क्षणिक क्रियाओं का प्रभाव हमारे हजारों जन्मों में भी भस्म नहीं हो सकते (हम एक क्षण में कई अदृश्य सत्त्वों को मार रहे हैं – और हमें कई हजारों जन्मों में उन सभी पाप-कर्मों के प्रभाव का उपभोग करना है)। इसके अलावा यह संसार भी एक बहुत ही क्रूर जगह है जहां संसारियों (भौतिकतावादि) खुद को स्थिर नहीं कर सकते हैं ताकि वे संसार में दु:खों को दूर कर सकें और स्वतंत्र हो सकें । इसके अलावा, वे हमेशा जन्म और मृत्यु के अटूट चक्र और उनके कर्मों के प्रभावों के बारे में चिंतित हैं। दयालु आचार्य ऐसे प्राणियों को आशीर्वाद देते हैं, उनके भय को हटाते हैं और उन्हें इस संसार से उन्नत करते हैं। ये आचार्य उन ऐसे लोगों को रूपांतरित करते हैं जिनको स्वयं के ज्ञान से रहित हैं (और सोचते रहते कि वे अपने शरीर से अलग नहीं हैं) और उन्हें अपनी असीम दया के माध्यम से अपनी वास्तविक प्रकृति का एहसास कराते हैं। आचार्य को पता चलता है कि क्या किया जाना है और क्या स्पष्ट रूप से दिया जाना चाहिए और शिष्यों को सचमुच बचाते हैं। ऐसी शिष्य जो वास्तव में धन्य हैं अपने अचार्य के कमल चरणों को उन्हें संसार से मुक्त करने के लिए सर्वोत्तम मार्ग के रूप में स्वीकार करना होगा। इस प्रबन्ध में बताया गया है कि, ऐसे विषयों के लिए हमेशा सबसे महत्वपूर्ण पहलुओं का पालन किया जाता है जो कि अन्तिमोपाय निष्ठा में स्थित हैं।

  • नित्य स्वाचार्य के दिव्य नामों, ज्ञान, स्नेह, उनका जन्म और क्रियाओं का लगातार ध्यान और महिमागान करना
  • नित्य उन दिव्य देशों या अभिमान क्षेत्रों का ध्यान और महिमागान करना जहां आचार्य रहते हैं
  • आचार्य के कमलचरणों को अंतिम आशीर्वाद का पथस्वरूप स्वीकार करना
  • नित्य आचार्य के दैवी रूप और उनके आचरण एवं शारीरिक आवश्यकताओं की सेवा के लिए लगातार ध्यान और महिमागान करना – इन्हें उपेय के रूप में माना जाता है, (अंतिम आशीर्वाद) एक अन्तिमोपय निष्ठा के लिए (जो आचार्य निष्ठा / चरम पर्व निष्ठा में है)।
  • नित्य विचारों, शब्दों और क्रियाओं द्वारा आचार्य के दिव्य रूप की सेवा करना और इस तरह के बहुमूल्य आचार्य-कैङ्कर्यों मे आनन्दित होना
  • शिष्य किङ्करता से प्रसन्न आचार्य को देखकर प्रसन्न (होना) और आचार्य के इस आनंद का परिणामस्वरूप प्राप्त आशीर्वाद का नित्य अनुभव करना
  • नित्य स्वाचार्य का मङ्गलाशासन करना (आचार्य के कल्याण के लिए)

अनुवादक का टिप्पणीः इस ग्रन्थ के अगले भाग में आचार्य की दया की महानता का समर्थन करने के लिए कई प्रमाणों की सूची दी गई है, इसके बाद एक शिष्य को कैसे होना चाहिए । यहां ८ पृष्ठों की छवियां संलग्न हैं । इस खंड का संक्षिप्त विवरण सूचीबद्ध प्रमाणों के अनुसार होगा ।

अनन्त पारं बहुवेदितव्यम् अल्पस्च कालो बहवस्च विघ्ना: ।
यत्सारभूतं तदुपासितव्यं हंसो यता क्षीरमिवाम्बुमिश्रं ॥

असारमल्पसारञ्च सारं सारतरं त्यजेत् ।
भजेत् सारतमं शास्त्रं रत्ना$कर इवामृतम् ॥

तत्कर्म यन्न बन्धाय साविद्या या विमुक्तये ।
आयासायापरम् कर्म विद्यान्या शिल्पनैपुणं ॥

शास्त्रज्ञानं बहुक्लेशं भुद्धेस्चलनकारणं ।
उपदेशाद्धरिम् बुद्धवा विरमेत् सर्वकर्मसु ॥

आद्याणम् सदृशे कथं विसदृशे देहे भवत्यात्मनः
सद्बुद्धेस्स च सङ्गमा$दपि भवेद्यौष्ण्यम् यथापातसि ।
को वा सङ्गतिहेतुरेवमनयोः कर्मात साम्येत् कुतः
तद्ब्रह्मादिगमात् स सिध्यति महान् कस्मात् सदाचार्यतः ॥

अनाचार्योपलब्दाहि विद्येयम् नस्यति दृवम् ।
शास्त्रादिशु सुदृष्टापि साङ्गासह पलोदया ।
न प्रसीदति वै विद्या विना सदुपदेशतः ॥

दैवाधीनं जगत्सर्वम् मन्त्राधीनं तु दैवतं ।
तन्मन्त्रं ब्राह्मणादीनं तस्माद्ब्राह्मणदैवतं ॥

वृतैव भवतो याता भूयसी जन्म सन्ततिः ।
तस्यामन्यतमं जन्म सञ्चिन्त्य शरणं व्रज ॥

पापिष्टः क्षत्रबन्धुस्च पुण्डरीकस्च पुण्यकृत् ।
आचार्यवत्तया मुक्तौ तस्मादाचार्यवान् भवेत् ॥

ब्रह्मण्येव स्थितं विश्वं ओम्कारे ब्रह्म संस्थितं ।
आचार्यात् स च ओम् कारस्तस्मादाचार्यवान् भवेत् ॥

आचार्यस्स हरिस्साक्षात् चररूपि न संशयः ।
तस्माद्भार्यादयः पुत्रास्तमेकम् गुरुमाप्नुयुः ॥

साक्षान्नारायणो देवाः कृत्वा मर्त्यमयीं तनुम् ।
मग्नानुद्धरते लोकान् कारुण्याच्छाऽस्त्रपाणिना ॥
तस्माद्भक्तिर्गुरौ कार्या संसारभयभीरुणा ॥

गुरुरेव परं ब्रह्म गुरुरेव परा गतिः ।
गुरुरेव पराविद्या गुरुरेव परं धनं ॥

गुरुरेव परःकामो गुरुरेव परायणम् ।
यस्मात्तदुपदेश्तासौ तस्माद्गुरुतरो गुरुः ॥

अर्चनीयस्च पूज्यस्च कीर्तनीयस्च सर्वदा ।
ध्यायेज्जपेन्नमेद्भक्त्या भजेदभ्यर्चयेन्मुदा ॥

उपायोपेयभावेन तमेव शरणं व्रजेत् ।
इति सर्वेषु वेदेषु सर्वसास्त्रेषु सम्मतम् ॥

येन साक्षाद्भगवति ज्ञानदीपप्रदे गुरौ ।
मर्त्यबुद्धि: कृता तस्य सर्वम् कुञ्जरशौचवत् ॥

यो दद्याद्भगवद्-ज्ञानं कुर्याधार्मोपसेवनं ।
कृत्स्नां वा पृथिवीम् दद्यान्न ततुल्यम् कथञ्चन ॥

ऐहिकामुश्मिकम् सर्वम् गुरुरष्टाक्षरप्रदः ।
इत्येवम् येन मन्यन्ते त्यक्तव्यास्ते मनीषिभिः ॥

येनैव गुरुणायस्य न्यासविद्या प्रदीयते ।
तस्य वैकुण्ठ दुग्धाब्दिद्वारकास्सर्व एव सः ॥

यत् स्नातम् गुरुणा यत्र तीर्थम् नान्यत् ततोधिकम् ।
यच्च कर्म तदर्थम् तद्विष्णोराराधनात्परम् ॥

पशुर्मनुष्यः पक्षी वा ये च वैष्णवसंश्रयाः ।
तेनैव ते प्रयास्यन्ति तद्विष्णो: परमं पदं ॥

भालमूकजधान्दास्च पङ्गवो बधिरास्तथा ।
सदाचार्येण सन्दृष्टाः प्राप्नुवन्ति पराङ्गतिम् ॥

यम् यम् स्पृशति पाणिभ्याम् यम् यम् पश्यति चक्षुषा ।
स्तावराण्यपि मुच्यन्ते किं पुनर्बान्धवाजनाः ॥

अन्धोनन्दग्रहणवसगो याति रङ्गेश यद्वत्
पङ्गुर्नौकागुहरनिहितो नीयते नाविकेन ।
भुङ्क्ते भोगानविधितन्रूपस्सेवकस्यार्भकादिः
त्वत्सम्प्राप्तौ प्रभवति तता देशिको मे दयालुः ॥

सिद्धं सत्सम्प्रदाये स्थिरदियमनघं श्रोत्रियं ब्रह्मनिष्ठं
सत्वस्थं सत्यवाचं समयनियतया साधुवृत्त्या समेतं ।
डम्भासूयाधिमुक्तं जितवषयगणं दीर्गबन्धुं दयालुं
स्कालित्ये सासितारम् स्वपरहितपरम् देशिकम् भूष्नुरिप्सेत् ॥

उत्पादकब्रह्मपित्रोर्गरीयान् ब्रह्मदःपिता ।
स हि विद्यातस्थं जनयति तच्छ्रेष्ठं जन्म ।
सरीरमेव मातापितरौ जनयताः ।
देहगृन्मन्त्रगृन्न स्यात् मन्त्रसंस्कारकृत् परः ।
तौ चेन्नात्मविदौ स्याताम् अन्यस्त्वात्मविदात्मकृत् ॥

नाचार्यः कुलजातोपि ज्ञानभक्त्यादि वर्जितः ।
न वयोजातिहीनस्च प्रकृष्टानामनापदि ॥

किमप्यत्राभिजायन्ते योगिनः सर्वयोनिषु ।
प्रत्यक्षतात्मनातानाम् नैशाम् चिन्त्यम् कुलाधिकं ॥

भिन्ननावश्रितो जन्तुर्यथा पारं नगच्छति ।
अन्धस्छान्दकरालम्बात् कूपान्ते पतिथोयता ॥

ज्ञानहीनं गुरुं प्राप्य कुतो मोक्षमवाप्नुयात् ।
आचार्यो वेदसम्पन्नो विष्णु भक्तो विमत्सरः ।
मन्त्रज्ञो मन्त्रभक्तस्च सदा मन्त्राश्रयसूसिः ॥

सत्सम्प्रदाय सम्युक्तो ब्रह्मविद्याविशारदः ।
अनन्यसाधनस्चैव तथानन्यप्रयोजनः ॥

ब्राह्मणो वीतरागस्च क्रोधलोभविवर्जितः ।
सद्वृत्तशासिता चैव मुमुक्षुः परमार्थवित् ॥

एवमादिगुणोपेत आचार्यस्स उदाहृतः ।
आचार्यो$पि तता शिष्यं स्निग्दो हितपरस्सदा ॥

प्रबोद्य भोदनीयानि वृत्तमाचारयेत् स्वयं ।
उत्तारयति संसारात् तदुपायप्लवेन तु ॥

गुरुमूर्तिस्थितस्साक्षाद् भगवान् पुरुषोत्तमः ।
त्रिरूपो हितमाचष्ठे मनुष्याणां कलौ हरिः ॥

गुरुस्च स्वप्नदृष्टस्च पूजान्ते चार्चकाननात् ।
ईश्वरस्य वसस्सर्वम् मन्त्रस्य वस ईश्वरः ।
मन्त्रो गुरुवसे नित्यम् गुरुरेवेस्वरस्थितिः ॥

येष वै भगवान् साक्षात् प्रधानपुरुषेश्वरः ।
योगीश्वरैर्विमृख्याङ्घ्रिलोको यं मन्यते नरं ॥

नारायणाश्रयो जीवस्सोयमष्टाक्षराश्रयः |
अष्टाक्षरस्सदाचार्ये स्थितितस्तस्माद्गुरुम् भजेत् ॥

दयादमसमोभेतं दृढभक्तिक्रियापरं ।
सत्यवाक् शीलसम्पन्नमेव कर्मसुकौशलं ॥

जीतेन्द्रियं सुसन्तुष्टं करुणापूर्णमानसं ।
कुर्याल्लक्षण सम्पन्नं आर्जवं चारुहासिनं ।
एवङ्गुणैस्च सम्युक्तं गुरुं विद्यात्तु वैष्णवं ।
सहस्रसकात्यायि च सर्वयत्नेशु दीक्षिताः ।
कुले महति जातोपि न गुरुस्स्यातवैष्णवः ।
अज्ञानतिमिरान्धस्य ज्ञानाञ्जनशलाकया ।
चक्षुर्न्मीलितं येन तस्मै श्री गुरवे नमः ॥

मन्त्रः प्रकृतिरित्युक्तो ह्यर्तः प्राण इति स्मृतः ।
तस्मान्मन्त्रप्रदाचार्याद्गरीयानर्थतो गुरुः ॥

गुशब्दस्त्वन्धकारस्स्याद्रुशब्दस्तन्निरोधकः ।
अन्धकारनिरोधित्वाद्गुरुरित्यभीदीयते ॥

शिष्यमज्ञानसम्युक्तं न शिक्षयति चेद्गुरुः ।
शिष्याज्ञानाकृतं पापं गुरोर्भवति निश्चयः ॥

लोभाद्वायदि वा मोहाच्छिष्यम् शास्ति नयो गुरुः ।
तस्मात् संश्रृणुते यस्च प्रच्युतौ तावुभावपि ॥

आसिनोति हि शास्त्रार्थानाचारे स्थापयत्यपि ।
स्वयमाचरते यस्तु आचार्यस्सोभिदीयते ॥

रविसन्नधिमात्रेण सूर्यकान्तो विराजते ।
गुरुसन्निदिमात्रेण शिष्यज्ञानं प्रकाशते ॥

यताहि वह्निसम्पर्कान्मलम् त्यजति काञ्चनम् ।
तथैव गुरुसम्पर्कात् पापं त्यजति मानवः ॥

स्नेहेन कृपया वापि मन्त्री मन्त्रम् प्रयचति ।
गुरुर्ज्ञेयस्च सम्पूज्यो दानमानादिभिस्सदा ॥

अनन्यशरणाञ्च तथा वानन्य सेविनाम् ।
अनन्यसाधानाञ्च वक्तव्यम् मन्त्रमुतमम् ॥

संवत्सरं तदर्थम् वा मासत्रय मधापिवा ।
परीक्ष्य विविधोपायैः कृपया निस्स्प्रृहो वदेत् ॥

नादीक्षिताय वक्तव्यम् ना भक्ताय न मानिने ।
नास्तिकाय कृतघ्नाय न श्रद्धाविमुखाय च ॥

देशकालादिनियमम् अरिमित्ऱदिशोधनम् ।
न्यासमुद्रादिकम् तस्य पुरष्चरणकम् न तु ॥

नस्वरः प्रणवोङ्गानि नाप्यन्य विदयस्तथा ।
स्त्रीणानाञ्च शूद्रजातीनां मन्त्रमात्रोक्त्रिश्यते ॥

ऋष्यादिञ्च करन्यासम् अङ्गन्यासनञ्च वर्जयेत् ।
स्त्रीशूद्रास्चविनीतास्चेन्मन्त्रम् प्रणववार्जितम् ॥

न देशकालौ नावस्ताम् पात्रशुद्धिनञ्च नै[ने]च्छति ।
द्वयोपदेशकरतातु शिष्यदोषं न पश्यति ॥

दुराचरोपि सर्वासी कृतघ्नो नास्तिकः पुरा ।
समाश्रयेदादिदेवम् श्रद्धया शरणं यदि ।
निर्दोषं विद्धितं जन्तुं प्रभवा$त् परमात्मनः ॥

मन्त्ररत्नम् द्वयम् न्यासम् प्रपत्तिस्शरणागतिः ।
लक्ष्मीनारायणञ्चेति हितम् सर्वपलप्रदम् ।
नामानि मन्त्ररत्नस्य पर्यायेण निबोधत ॥
तस्योच्चारणमात्रेण परितुष्टोस्मि नित्यसः ॥

ब्राह्मणाः क्षत्रिया वैश्यास्स्त्रियस्शूद्रास्तथेतराः ।
तस्यादिकारिणस्सर्वे मम भक्तो भवेद्यदि ॥

यस्तु मन्त्रद्वयम् सम्यगद्यापयति वैष्णवान् ।
आचार्यस्स तु विज्ञेयो भवबन्धविमोचकः ॥

नृदेहमाद्यम् प्रतिलभ्य दुर्लभम् प्लवं सुकल्यं गुरुकर्णधारकं ।
मयानुकूलेन नभस्वतेरितं पुमान् भवाब्धिम् सतरेत् न आत्महा ॥

आचार्यम् माम् विजानीयान्नावमन्येत कर्हिचित् ।
न मात्यभुद्ध्यादृष्येत सर्वदेवमयो गुरुः ॥

अथ शिष्यलक्षणम् –

मानुष्यम् प्राप्य लोकेस्मिन् न मुखो पदिरोभि वा ।
नापक्रमाति सम्सारात् स खलु ब्रह्महा भवेत् ॥

सदाचार्योपसत्त्या च साभिलाशस्तदात्मकः ।
तत्त्वज्ञाननिदिम् सत्त्वनिष्ठम् सद्गुणसागरम् ।
सताम् गतिम् कारुणिकम् तमाचार्यम् यथाविधि ।
प्रणिपातनमस्कारप्रियवाग्भिस्च तोषयन् ।
तत्प्रसादवसेनैव तदङ्गीकारलाभवान् ।
तदुक्ततत्त्वयातात्म्यज्ञनामृत सुसम्बृतः ॥

अर्थम् रहस्यत्रितयगोचरम् लब्दवाहनम् ॥

परीक्ष्य लोकान् कर्मचितान् ब्राह्मणो निर्वेदमायात् नास्त्यकृतः
कृतेन तद्विज्ञानार्थम् स गुरुमेवाभिगचेत् समित्पाणिस्-
श्रोत्रियम् ब्रह्मनिष्ठम् तस्मै स विद्वानुपसन्नाय सम्यक्-
प्रासान्तचिताय समान्विदाय येनाक्षरम् पुरुषं वेद सत्यम् प्रोवाच
ताम् तत्त्वतो ब्रह्मविद्याम् ॥

गुरुम् प्रकाशयेद्धीमान् मन्त्रम् यत्नेन गोपयेत् ।
अप्रकाशप्रकाशाभ्याम् क्षीयेते सम्पदायुषी ॥

आचार्यस्य प्रसादेन मम सर्वमभीप्सितम् ।
प्राप्नुयामीति विश्वासो यस्यास्ति स सुखीभवेत् ॥

आत्मनो ह्यतिनीचस्य योगिद्येयपदार्हताम् ।
कृपयैवोपकर्तारम् आचार्यम् सम्स्मरेत् सदा ॥

न चक्राद्यङ्गनम् नेज्या न ज्ञानम् न विरागता ।
न मन्त्रः पारमैकान्त्यम् तैर्युक्तो गुरुवस्यतः ॥

नित्यम् गुरुमुपासीत तद्वचःस्रवणोत्सुकः ।
विग्रहालोकनपरस्तस्यैवाग्याप्रदीक्षकः ॥

प्रक्षाल्य चरणौ पात्रे प्रणिपत्योपयुज्य च ।
नित्यम् विदिवदर्ज्ञात्यैराधृतोभ्यर्चयेद्गुरुम् ॥

श्रृति:

आचार्यवान् पुरुषो वेद । देवमिवाचार्यमुपासीत ।
आचार्यादीनो भव । आचार्यादीनस्तिष्ठेत् । आचार्य देवो भव ।
यत भगवत्येवम्वक्तरि वृतिः । गुरुदर्शने चोत्तिष्ठेत् ।
गच्छन्तमनुव्रजेत् ।
शरीरम् वसु विज्ञानम् वासः कर्म गुणानसून् ।
गुरुवर्तम् दारयेद्यस्तु स शिष्यो नेतरस्स्मृतः ॥

धीर्गदण्डनमस्कारम् प्रत्युत्तानमनन्तरम् ।
शरीरमर्थम् प्राणनञ्च सद्गुरुभ्यो निवेदयेत् ॥

गुर्वर्तस्यात्मनः पुंस: कृतज्ञस्य महात्मनः ।
सुप्रसन्नस्सदा विष्णुर्हृदि तस्य विराजते ॥

मन्त्रे तीर्थे द्विजे देवे दैवज्ञे भेषजे गुरौ ।
यादृशी भावना यत्र सिद्धिर्भवति तादृशी ॥

यस्य देवे पराभक्तिर् यथादेवे तथा गुरौ ।
तस्यै तेकथिता ह्यर्ताः प्रकाश्यन्ते महात्मनः ॥

दर्शनस्पर्शवचनैस् सञ्चारेण च सतमाः ।
भूतम् विधाय भुवनम् मामेश्यन्ति गुरुप्रियाः ॥

देहकृन्मन्त्रकृन्न स्यान्मन्त्रसम्स्कारकृत्परः ।
तौ छेन्नात्मविदौ स्याताम् अन्यस्त्वात्मविदात्मक्रुत् ॥

अवैष्णवोपदिष्टम् स्यात्पूर्वम् मन्त्रवरम् द्वयम् ।
पुनस्च विधिना सम्यक्वैष्णवाद्ग्राहयेद्गुरोः ॥

अत स्त्रीशूद्रसङ्कीर्णनिर्मूलपतितादिषु ।
अनन्येनान्यदृष्टौ च कृतापि न कृता भवेत् ॥

अतोन्यत्रानुविधिवत् कर्तव्या शरणागतिः ।
दण्डवत् प्रणमेद्भूमावुपेत्य गुरुमन्वहम् ।
दिशे वापि नमस्कुर्यात् यत्रासौ वसति स्वयम् ॥

आचार्यायाहरेदर्थानात्मानञ्च निवेदयेत् ।
तदधीनस्च वर्तेत साक्षान् नारायणो हि सः ॥

सत्भुधिस्साधुसेवी समुचितचरितस् तत्वभोदाभिलाषू ।
सुश्रृशुस्त्यक्तमानः प्रणिपतनपरः प्रश्नकालप्रतीक्ष: ॥

शान्तो दान्तोनसूयुस्शरणमुपगतस्शास्त्रविश्वासशाली ।
शिष्यः प्राप्तः परीक्षाङ्गृतविदभिमतम् तत्त्वतः शिक्षणीयः ॥

यस्त्वाचार्यपराधीनस्सद्वृत्तौ सास्यते यदि ।
शासने स्थिरवृत्तिस्स शिष्यस्सद्भिरुदाहृतः ॥

शिष्यो गुरुसमीपस्थो यथवाक्कायमानसः ।
सुश्रृषया गुरोस्तुष्टिम् कुर्यान्निर्धूतमत्सरः ॥

आस्तिको धर्मशीलस्च शीलवान् वैष्णवस् शुचिः ।
गम्भीरस्चतुरो धीरः शिष्य इत्यभीदीयते ॥

आसनम् शयनम् यानम् तदीयम् यच्छ कल्पितम् ।
गुरुणाञ्च पदाक्रम्य नरो यस्त्वदमाम् गतिम् ॥

घोष्वोष्त्रयानप्रसादप्रस्तरेषु कटेशु च ।
नासीत गुरुणा सार्थदम् शिलाबलकनौशूच ॥

यस्तिष्ठति गुरुणाञ्च समक्षमकृताञ्जलिः ।
समदृष्ट्या तदाज्ञानत् स सद्यो निरयम् व्रजेत् ॥

आसनम् शयनम् यानम् अपहासञ्च शौनक ।
अतिप्रलापम् गर्वञ्च वर्जयेद्गुरुसन्निधौ ॥

यदृच्छया श्रृतो मन्त्रस्छन्नेनाथच लेन वा ।
पत्रेक्षितो वाव्यर्तस्स्यात् तम् जपेद् यद्यनर्थकृत् ॥

मन्त्रे तद् देवतायानञ्च तथा मन्त्रप्रदे गुरौ ।
त्रिषूभक्तिस्सदा कार्या साहि प्रथमसाधनम् ॥

अधमो देवताभक्तो मन्त्रभक्तस्तु मध्यमः ।
उत्तमस्तु स मे भक्तो गुरुभक्तोतमोत्तमहः ॥

श्रृति:-

आचार्यान् मा प्रमदः! आचार्याय प्रियम् धनमाहृत्य ।
गुरोर्गुरुतरम् नास्ति गुरोरन्यन्न भावयेत् ।
गुरोर्वार्त्तास्च कथयेद् गुरोर्नाम सदाजपेत् ॥

अर्चनीयस्च वन्द्यस्च कीर्तनीयस्च सर्वदा ।
ध्यायेज्जपेन्नमेद् भक्त्या भजेतब्यर्चयेन्मुदा ॥

उपायोपेय भावेन तमेव शरणम् व्रजेत् ।
इति सर्वेषु वेदेषु सर्व शास्त्रेषु सम्मतम् ॥

येवम् द्वयोपदेष्टारम् भावयेद् बुद्धिमान्दिया ।
इच्चाप्रकृत्यनुगुणैरुपचारैस्तथोचितैः ॥

भजन्नवहितस्चास्य हितमावेदयेद्रः ।
कुर्वीत परमाम् भक्तिम् गुरौ तत्प्रियवत्सलः ॥

तदनिष्ठावसादी च तन्नामगुणहर्षितः ।
शान्तोनसूयुः श्रद्धावान् गुर्वर्ताद्यात्मवृतिकः ॥

शुचिः प्रियहितो दान्तः शिष्यस्सोपरतस्सुदिः ।
न वैराग्यात्परो लाभो न बोदादपरम् शूकम् ।
न गुरोरपरस्त्राता न सम्सारात् परो रिपुः ॥

अनुवादक का टिप्पणी: चूंकि अडियेन का संस्कृत ज्ञान सीमित हैं, इसलिए अडियेन केवल उन प्रमाणों का अनुवाद कर रहा है जिन्हें आम तौर पर निर्दिष्ट कर समझाया जाता है।

आचार्य वैभव से सारांश और कुछ प्रमुख बिंदु:

  • हमारे जीवन अल्पायु है लेकिन स्वयं के बारे में सच्चा ज्ञान सीखने की कोशिश करते समय इतनी बाधाएं हैं। हमें एक हंस की तरह होना चाहिए जो दूध को पानी से अलग करता है और सिर्फ दूध का उपभोग करता है।
  • शास्त्र मूल्यवान रत्नों से भरा महासागर है – लेकिन इसमें अनचाहे खरपतवार, भ्रामक संस्थाएं आदि शामिल हैं। सबसे मूल्यवान रत्न तिरुमन्त्र और इसका अर्थ है जो शास्त्रों में गोपनीय हैं। आत्म का सच्चा साधक को तिरुमन्त्र और इसके अर्थों पर ध्यान देना चाहिए और उन वर्गों को अनदेखा करना चाहिए जो कम महत्वपूर्ण हैं।
  • वह ज्ञान जो मोक्ष की ओर जाता है वह ज्ञान सत्य है और अन्य कोई भी ज्ञान जो शारीरिक सुखों के लिए उपयोगी है, (वह) बेकार है।
  • विभिन्न प्रमाणों के माध्यम से स्वयं द्वारा शास्त्र के सार को समझना बहुत मुश्किल और चुनौतीपूर्ण है। एक सीखा विद्वान से सार सुनना और उन निर्देशों के आधार पर हमारे जीवन का नेतृत्व करना बहुत आसान है।
  • पूरा ब्रह्माण्ड भगवान् के नियंत्रण में है, भगवान् दयालु रूप से स्वयं को तिरुमन्त्र द्वारा नियंत्रित करने की अनुमति देते है और तिरुमन्त्र एक आचार्य के विक्रय में होता है – इस प्रकार आचार्य स्वयं भगवान् के समान होता है।
  • हर किसी को आचार्य से संपर्क करना चाहिए क्योंकि दोनों घृणास्पद पापी क्षत्रबन्धु और पवित्र पुण्डरीक को आचार्यों द्वारा मुक्त हुए थे ..
  • आचार्य खुद भगवान् श्रीहरि हैं । भगवान् के विपरीत जो मंदिर में अपनी इच्छानुसार किसी भी चाल के बिना रहते है, आचार्य चलते हुए भगवान् है। अतः प्रत्येक को आचार्य पर पूर्ण विश्वास होना चाहिए।
  • भगवान् श्रीमन्नारायण स्वयं को अपने दिव्य दया से पूरे ब्रह्माण्ड के लोगों का ऊत्थान के लिए आचार्य् के रूप में एक मानवमात्र रूप धरते है । जब वह आचार्य के रूप में प्रकट होते है तो वह अपने हाथों में शास्त्र रखता है (जबकि वह खुद के रूप में प्रकट होते है (श्री राम, श्री कृष्ण, आदि) वह अपने हाथों में अस्त्र (हथियार) धरते है)। इस प्रकार, जो लोग संसार से डरते हैं उन्हे उनके आचार्य भक्त परायण होना चाहिए।
  • एक पशु, मानव या पक्षी, जो एक बार वैष्णव का आश्रय लेता हैं, वह सुनिश्चित रूप से श्रीमहाविष्णु (परमपद) के दिव्य धाम को प्राप्त करता हैं।
  • बच्चा, बहरा, गूंगा, अंधा, लंगड़ा, आदि, जब एक असली आचार्य का आश्रय लेता है, उनका अंतिम गंतव्य परमपद मे पहुंचना निश्चित हैं।
  • यहां तक कि पौधों और पेड़ भी वैष्णव के कटाक्ष (दयालु दृष्टि) या स्पर्श का लक्ष्य बनते हैं, उनकी मोक्ष प्राप्ति आश्वस्त है – मनुष्यों के बारे में क्या कहना है? (वे संसार से राहत प्राप्त करने के लिए निश्चित हैं)।
  • “गु” अज्ञानता को इंगित करता है, “रु” इस तरह के निष्कासन को इंगित करता है। इस प्रकार गुरु का अर्थ है जो हमारी अज्ञानता को हटा देता है।
  • आचार्य का अर्थ है जो शास्त्र को पूरी तरह से सीखते हैं, उन्हें दृढ़ता से दूसरों को बताता है और स्वयं इसका यथाचरण करता है।
  • और कई और प्रामाण उपलब्ध हैं।

सारांश और शिष्यालक्ष्ण से कुछ प्रमुख बिंदुओं का अनुभागः

  • एक शिष्य को सभा या जनता में, अपने आचार्य का महिमागान करना चाहिए और उन रूचि रखने वाले लोगों को निजी मूल्यवान शिक्षा देना चाहिए। अगर उसने यह उलटा किया (निजी तौर पर आचार्य को गौरव और अाचार्य के सम्मान के बिना जनता में शिक्षाओं का वितरीकरण करना), तो उसकी संपत्ति, आदि कम हो जाएगी।
  • एक शिष्य को शास्त्र के प्रति निष्ठावान होना चाहिए, भगवान् द्वारा निर्देशित अपने उचित धर्म का पालन करना चाहिए, कैङ्कर्य लक्ष्य पर पूर्णतया ध्यान केंद्रित होना चाहिए, उसे भगवान् श्रीमन्नारायण का शरणागत होना चाहिए, शुद्ध, गंभीर, बुद्धिमान और सुदृढ़-हृदय होना चाहिए। ऐसे शिष्यों को एक आचार्य का सच्चा शिष्य माना जाता है।
  • एक शिष्य को आचार्य में अपने शरीर, धन, ज्ञान, निवास स्थान, कार्य आदि का पूर्णा्रपण करना चाहिए और केवल आचार्य की इच्छा के लिए जीना चाहिए।
  • आचार्य के सामने अनावश्यक चर्चा (प्रजल्प), गर्व, आदि छोड़ देना चाहिए।
  • एक शिष्य को मन्त्र (अाचार्य द्वारा निर्देशित), देवता (मन्त्र का विषय – भगवान्) और मन्त्र प्रदाताचार्य के प्रति समर्पित भाव होना चाहिए । कनिष्ठ शिष्य श्रेणी मे शिष्य को देवता (भागवन) मे अधिक रति होता है; मध्यम शिष्य श्रेणी मे शिष्य को मन्त्र मे अधिक रति होता है; उत्तम शिष्य श्रेणी मे शिष्य को आचार्य मे अधिक रति होता है  जिन्होंने भगवान् पर ध्यान करने का मन्त्र दिया है।
  • शिष्य को अपने आचार्य को वो देना (प्रस्ताव) जो कि उनके आचार्य के लिए प्रिय है (और ना की वह जो वह (शिष्य) देना चाहता है)।
  • शिष्य को हमेशा आचार्य पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए और इसके अलावा कुछ भी नहीं। गुरु के शब्दों पर चर्चा / पालन किया जाना चाहिए और गुरु के नामों को हमेशा गुणगान करना चाहिए। शिष्य को आचार्य का महिमागान करना चाहिए; उसे आचार्य को अपनी प्रार्थनाएं करनी चाहिए; शिष्य को हमेशा अपने आचार्य के बारे में ध्यान और गान करना चाहिए। शिष्य को अपने आचार्य को साधन (पथ) और लक्ष्य दोनों के रूप में मानना चाहिए – यह शास्त्र (वेद) के विचारों के साथ पूरी तरह से सङ्गत है।
  • और कई और प्रामाण उपलब्ध हैं।

जारी रहेगा…

अडियेन भरद्वाज रामानुज दासन्

आधार – http://ponnadi.blogspot.in/2013/06/anthimopaya-nishtai-1.html

प्रमेय (लक्ष्य) – http://koyil.org
प्रमाण (शास्त्र) – http://granthams.koyil.org
प्रमाता (आचार्य) – http://acharyas.koyil.org
श्रीवैष्णव शिक्षा/बालकों का पोर्टल – http://pillai.koyil.org

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s