अन्तिमोपाय निष्ठा – ५ -भट्टर्, श्रीवेदान्ति जीयर् (नन्जीयर्) और श्रीकलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै)

श्री: श्रीमते शठकोपाय नमः  श्रीमते रामानुजाय नमः  श्रीमद्वरवरमुनये नमः श्री वानाचल महामुनये नमः

अन्तिमोपाय निष्ठा

<< एम्पेरुमानार् की दया

 

पिछले लेख (अन्तिमोपाय निष्ठा – ४ – श्री रामानुज (एम्पेरुमानार्) की दया) में, हमने श्री रामानुज (एम्पेरुमानार्) की दिव्य दया देखी। हम इस लेख में हमारे पूर्वाचार्यों के साथ हुए कई घटनाओं का क्रम को जारी रखेंगे।

आज़्ह्वान्, भट्टर्, श्री रंगनायकी (नाचियार्) और श्री रंगनाथ (नम्पेरुमाळ्)

भट्टर् जो श्री कूरेश (कूरत्ताऴ्वान्) के पुत्र के रूप में पैदा हुए थे और जिनको स्वयं श्री रंगनाथ (पेरिय पेरुमाळ्) ने अपने प्रिय बेटे के रूप में अपनाया गया था और श्री रंगनाथ (पेरिय पेरुमाळ्) (और श्री रंगनायकी (पेरिय पिराट्टियार्) खुद) द्वारा उत्थापित किया गया था, हमारे सम्प्रदाय का नेतृत्व कर रहे थे। एक बार, एक यात्री ब्राह्मण श्रीरंगम का दौरा करते हैं और भट्टर् की सभा में जाते हैं। वह (यात्री ब्राह्मण) कहता है, “भट्टर् जी! पश्चिमी भाग में (मेल्कोटे/तिरुनारायणपुर के अंदर / पास), वहां एक वेदान्ती नाम का विद्वान है। इस दास का मानना है की उनका ज्ञान और (उनके) शिष्य आपके योग्य प्रतियोगी हैं। “भट्टर्, उस ब्राह्मण के शब्दों को सुनकर जवाब देते हैं” ओह! क्या ऐसा विद्वान् है? “और ब्राह्मण जवाब देता है “जी हां स्वामिन्”। तदनन्तर वह ब्राह्मण श्रीरंगम छोड़ देता है और वेदान्ती के शहर तक पहुंचता है और वेदान्ती की सभा में जाता है। वह कहता है “हे वेदान्ती! दो नदियों (श्रीरंगम) के बीच में, एक भट्टर् नाम के विद्वान् है जो आपके ज्ञान और शिष्यों के योग्य प्रतियोगी है”। वेदान्ती जवाब देता है “क्या भट्टर् मेरे योग्य प्रतियोगी है?”। ब्राह्मण ने जवाब दिया “जी हां वेदान्ती जी । वह शब्द, तर्क, पूर्व मीमाम्स, उत्तर मीमाम्स इत्यादि से शुरू होने वाले सभी ग्रंथों में कुशल हैं। “वेदान्ती चिंतित हो जाते हैं और सोचते हैं” मैंने सोचा कि मेरे लिए कोई प्रतियोगी नहीं था क्योंकि मैंने पहले से ही कई विद्वानों को जीते है और ६ तख्तों पर बैठे हूँ (षड्-दर्शन का प्रतिनिधि हूँ) जहाँ हर एक-एख तख्त एक-एख षड्-दर्शन का प्रतिनिधित्व करता है (छः दार्शनिक विद्यालय – न्याय, वैसेशिक, सान्क्य, योग, पूर्व मीमाम्स, उत्तर मीमाम्स)। लेकिन यह ब्राह्मण कह रहा है कि इन सभी में भट्टर् मुझसे भी ज्यादा बुद्धिमान है। ” ब्राह्मण श्रीरंगम लौटते हैं और भट्टर् को सूचित करते हैं कि उन्होंने भट्टर् की महानता का विशेष परिचय वेदान्तीजी को दिया । भट्टर् ने ब्राह्मण से पूछा, “आपने मेरे ज्ञान के बारे में क्या कहा?” और ब्राह्मण ने जवाब दिया “मैंने कहा कि भट्टर् शब्द, तर्क और सभी वेदान्त में कुशल है।”  भट्टर् ने जवाब दिया “ओह ब्राह्मण! आप कई जगहों पर यात्रा करते हैं और विभिन्न विद्वानों और उनके ज्ञान से अवगत हो गए हैं। लेकिन मेरा पूरा ज्ञान जानने के बाद भी, आपने केवल मेरे वेदान्त ज्ञान के बारे में सूचित किया है”। ब्राह्मण पूछता है, “मैं सबसे ज्यादा स्थापित शास्त्र – वेदान्त पर आपके नियंत्रण के अलावा वेदान्ती से और क्या कह सकता हूं?” और भट्टर् कहते हैं, “आपको उसे बताना चाहिए कि मैं तिरुनेडुन्ताण्डगम् में एक विशेषज्ञ हूं (अनुवादक का टिप्पणी: तिरुमङ्गै आऴ्वार् का एक दिव्य ग्रन्थ जो बहुखूबी से वेदान्त-सार और हमारे सम्प्रदाय के सभी महत्वपूर्ण पहलुओं को समझाता है) “। तब भट्टर् वेदान्ती को श्रीवैष्णव गुना में लाने पर विचार करना शुरू करते हैं (अनुवादक का टिप्पणी: जैसा कि ६००० पडि गुरु परम्परा प्रभाव में पहचाना जाता है, श्री रामानुज (एम्पेरुमानार्) स्वयं वेदान्ती में सुधार करना चाहते हैं लेकिन उनकी बुढ़ापे के कारण वह यात्रा करने में असमर्थ है और इसलिए ऐसा करने के लिए भट्टर् को निर्देश देते हैं)। वह श्री रंगनाथ (पेरिय पेरुमाळ्) के पास जाते हैं और उन्हे बताते हैं “पश्चिमी भाग में एक महान विद्वान वेदान्ती है। मैं उधर जाने और उसे सुधारने के लिये आपकी अनुमति का अनुरोध कर रहा हूं। कृपया मुझे आशीर्वाद दें कि मैं उसे सुधारने और उसे हमारे रामानुज सिद्धांत में एक नेता बनाने में सक्षम हूं। श्री रंगनाथ (पेरुमाळ्) ने भट्टर् के अनुरोध को स्वीकारा और भट्टर् के साथ अपना माता-पिता के रिश्ते पर विचार करते हुए, श्री रंगनाथ (पेरुमाळ्) अपने स्वयं के कैङ्कर्यपर (वो जो श्री रंगनाथ का कैङ्कर्य करते थे) को यात्रा के दौरान उनके साथ जाने का आदेश देते  हैं।

भट्टर्, श्री वेदान्ती जीयर् (नन्जीयर्)

भट्टर् उस स्थान के आस-पास पहुंचते हैं जहां वेदान्ती कई श्रीवैष्णवों के साथ रहते हैं। उनके साथ कैङ्कर्यपर (वो जो श्री रंगनाथ का कैङ्कर्य करते थे) भट्टार की महिमा कह रहे थे और लगातार कह रहे थे कि “पराशर भट्टर् आ गये हैं, वेदाचार्य भट्टर् आ गये हैं, आदि” और उनके सामने कई संगीत वाद्ययंत्र बजा रहे थे। उन्होने (पराशर भट्टर्) कई दिव्य गहने और बहुत खूबसूरत कपड़े पहने हुए थे (सभी श्री रंगनाथ (पेरिय पेरुमाळ्) से संबंधित थे क्योंकि वह श्री रंगनाथ (पेरिय पेरुमाळ्) के पुत्र थे)। उस समय कुछ स्थानीय ब्राह्मणों ने उन पर ध्यान दिया (नोटिस किया) और उनसे पूछा, “आप कौन हो? आप कहाँ से आ रहे हो? आप तेजामय प्रकाश से चकाचौंध लग रहे है और यहां कोई उत्सव-काल भी नही है। अब आप कहाँ जा रहे हैं? “भट्टर् ने जवाब दिया” मैं भट्टर् हूं। मैं वेदान्ती के साथ वाद-विवाद करने जा रहा हूं “। ब्राह्मणों ने कहा,” यदि आप इतने उत्साह और उत्तेजना के साथ जाते हैं, तो आप वेदान्ती से मिलने में असमर्थ होंगे। वह अपने महल के अंदर रहेगा और उनके शिष्य आपके साथ कई महीनों तक वाद-विवाद करेंगे और केवल टालेंगे/तबाही करेंगे और आप अंततः हार जाएंगे। “तब भट्टर् पूछते हैं” उनसे सीधे मिलने और उनसे वाद-विवाद करने का सबसे अच्छा तरीका क्या है? “और ब्राह्मणों ने कहा,” चूंकि वेदान्ती एक अमीर व्यक्ति है, इसलिए वह अपने महल में निरंतर/लगातार ब्राह्मणों को खिलाता है। आप एक गरीब ब्राह्मण की तरह कपड़े पहनो और उनके साथ प्रवेश करें। इसलिए, आप अपने सभी लोगों को पीछे छोड़ दो और अकेले जाइये। “भट्टर् इस प्रस्ताव से सहमत होते हैं, अपने कपड़ों के ऊपर एक कषाय कपड़े पहनते हैं, कमण्डल (छोटे पानी के बर्तन) को उठाते हैं और गरीब ब्राह्मणों के साथ मण्डप (हॉल) जहां ब्राह्मणों को खिलाया जाता है वहां जाते हैं।

मण्डप में, वेदान्ती, ऊपर उठाए गए मंच पर बैठे, खुशी से भोजन स्वीकार करने के लिए आने वाले ब्राह्मणों को देख रहे थे। सब में, अकेले भट्टर् , भोजन स्वीकार करने के बजाय सीधे वेदान्ती के पास जाते हैं। वेदान्ती पूछते हैं “बेटा! तुम यहाँ क्यों आ रहे हो?” और भट्टर् जवाब देते हैं “मैं यहां एक भिक्षा के लिए आया हूं”। वेदान्ती कहते हैं, “कृपया जहां वे भोजन वितरित कर रहे हैं वहां पर जाएं”। भट्टर् कहते हैं, “मैं खाना नहीं चाहता हूं”। वेदान्ती सोचते हैं, भले ही वह गरीब दिखता है, यह आदमी विद्वान हो सकता है और इसलिए पूछते हैं “क्या भिक्षा?”। तुरंत भट्टर् कहते हैं “तर्क भिक्षा” (मुझे वाद-विवाद करना है)। वेदान्ती यात्री ब्राह्मण के शब्दों को समझते हैं जिन्होंने भट्टर् के बारे में बताया और सोचता हैं कि भट्टर् के अलावा किसी और के पास आने और वाद-विवाद के लिए हिम्मत नहीं होगी। वह सोचते हैं कि इनका रूप धोखा दे रहा हैं, यह भट्टर् होना चाहिए और पूछता है, “मेरे साथ वाद-विवाद करने के लिए कौन पूछ सकता है? क्या आप भट्टर् हैं?”। भट्टर् जवाब देता है “हां, मैं भट्टर् हूं” और कमण्डल और कषाय कपड़े को दूर फेंका। वह शास्त्र के सार को उग्र रूप से समझाते हैं और वेदान्ती तुरंत मंचक से नीचे उतरते हैं और भट्टर् के कमल चरणों में गिरते हैं। वह भट्टर् से उसे स्वीकार करने और उसे शुद्ध करने के लिए कहते हैं। भट्टर् बहुत खुश थे कि उनका उद्देश्य जल्दी से पूरा हो गया था, वेदान्ती को स्वीकार करते हैं और उनको पञ्च संस्कार प्रदान करते हैं। भट्टर् ने उन्हें बताया “प्रिय वेदान्ती! आप पहले से ही शास्त्र के बारे में अच्छी तरह से जानते हैं। मैं अब सबकुछ विस्तार से समझाऊंगा नहीं। विशिष्टाद्वैत सच्छा सिद्धांत है। आप पूरी तरह से मायावाद छोड़ दो, सर्वोच्च व्यक्ति के रूप में श्रीमन् नारायणन् को स्वीकार करो और हमारे रामानुज दर्शन में एक आचार्य का नेतृत्व करना शुरू करो । तब भट्टर् वहं से निकलने का फैसला करते हैं और सभी कैङ्कर्यपर (वो जो श्री रंगनाथ का कैङ्कर्य करते थे) (जो बाहर इंतजार कर रहे थे) उस समय महान वैभव के साथ पहुंचे। भट्टर् को फिर से दिव्य कपड़े और गहने के साथ खूबसूरती से सजाया गया और पालकी में बिठाया गया। कई लोग चामर, पंखा, आदि के साथ उनकी सेवा करते हुए वहाँ से प्रस्थान करते हैं। धन, अनुयायियों और धूमधाम को देखकर वेदान्ती जोर से रोते हुए कहते हैं, “आप इतने महान व्यक्तित्व हैं। मैं इतना गिर गया हूं (भौतिकवादियों की तुलना में अधिक गिर गया क्योंकि मैं मायावाद का प्रचार कर रहा था)। लेकिन आपने कई जंगलों, पहाड़ों, आदि पार किया है यहां पहुंचे और मुझे, मेरे दुर्भाग्य को देखकर मुझे स्वीकार कर लिया। आप इतने दयालु हैं “और फिर भट्टर् के कमल चरणों में गिरते हैं।

वेदान्ती तब कहते हैं, “आप श्री रंगनाथ (पेरिय पेरुमाळ्) के अलावा कोई नहीं हैं जो अपनी सुंदरता, कोमलता इत्यादि प्रकट करने के लिए यहां पहुंचे हैं। बहुत काल के लिए, मैं भगवान् के दयालु हाथों से बच गया था और मुझे बचाने का कोइ अन्य तरीका नहीं है सोचकर, आपने एक बहुत ही गरीब ब्राह्मण के रूप को स्वीकार कर लिया और मुझे स्वीकार किया जो इतने गर्व और अहंकार से भरा हुआ था। मैं कल्पना नहीं कर सकता और उस रूप को देखता हूं जिसे आपने मेरे लिए महान दया से स्वीकार किया है “और फिर रोना शुरू कर देता है। तब भट्टर् ने वेदान्ती को उठाया और कहा कि “आप यहां खुशी से रहना जारी रखें” और श्रीरंगम को निकल जाते है।

कुछ समय बाद, वेदान्ती, अपने आचार्य से जुदाई सहन करने में असमर्थ हो कर, श्रीरंगम जाने का फैसला करते है। उनकी पत्नियां उन्हे जाने से रोकती हैं और वह अपनी संपत्ति को विभाजित करके और जाने से पहले अपनी पत्नियों को व्यवस्थित करने का फैसला करते हैं। वह अपनी असीमित संपत्ति को 3 भागों में विभाजित करते हैं, अपनी दोनों पत्नियों को एक हिस्सा देता हैं और शेष भाग को अपने आचार्य (भट्टर्) को पेश करते हैं और श्रीरंगम को जाते हैं। उसके बाद वो श्रीरंगम तक पहुंचते हैं, बिना किसी गर्व के भट्टर् को सारी संपत्ति प्रदान करते हैं और वो सब भट्टर् के नियंत्रण में छोड़ देते हैं। वेदान्ती वहां भट्टर् के प्रति कृतज्ञता से खड़े हैं, और् भट्टर् वेदान्ती के समर्पण से बहुत खुश हो कर , “नम् जीयर् वन्दार्” – हमारे जीयर आ गए हैं) और उसे गले लगाते हैं। भट्टर् हमेशा अपनी संगत में श्री वेदान्ती जीयर् (नन्जीयर्) को रखते हैं और उसे सभी आवश्यक शिक्षाओं के साथ आशीर्वाद देते हैं। जीयर पूरी तरह से स्वीकार करते हैं / भट्टर् की पूजा करते हैं और किसी अन्य पूजा करने योग्य देवता की तलाश नहीं करते हैं। उस समय से, भट्टर् ने वेदान्ती को श्री वेदान्ती जीयर् (नन्जीयर्) कहा, और वेदान्ती श्री वेदान्ती जीयर् (नन्जीयर्) के नाम से जाना जाने लगे। हमारे जीयर् (मामुनिगळ्) कहते हैं कि ”  श्री वेदान्ती जीयर् (नन्जीयर्) १०० वर्षों तक जीवित रहे और उन्होंने तिरुवाय्मोऴि के अर्थों को १०० बार व्याख्यान दिया और शताभिशेक प्रदर्शन किया (उत्सव को तिरुवाय्मोऴि के १०० गुना व्याख्यान मनाने का जश्न मनाया)।

श्री वेदान्ती जीयर् (नन्जीयर्) नित्य भट्टर् की सेवा करते थे और उनेकी अनुमति के साथ तिरुवाय्मोऴि  की व्याख्या (व्याख्यात्मक निबंध) लिखते हैं जिसका नाम ९००० पडि है। वह अपने शिष्यों से पूछते हैं कि क्या कोई ऐसा व्यक्ति है जो उस व्याख्यात्मक निबंध की अच्छी / साफ प्रतिलिपि बना सकता है। शिष्य कहते हैं, “एक वरदराजन् है जो यहां थोडे दिनो से व्याख्या में भाग ले रहा है। वह बहुत अच्छी तरह से लिखता है “। श्री वेदान्ती जीयर् (नन्जीयर्) वरदराजन् को आमंत्रित करते हैं और उन्हे अपने हाथ-लेखन का नमूना दिखाने के लिए कहते हैं और वह बाध्य से करता है। श्री वेदान्ती जीयर् (नन्जीयर्) सोचते हैं” उसका हाथ-लेखन सुंदर है। लेकिन चूंकि यह तिरुवाय्मोऴि के लिए व्याख्यात्मक निबंध है, हमें यह एक बहुत ही योग्य श्रीवैष्णव द्वारा लिखा जाना चाहिए, ना कि कोइ जिसका सिर्फ पञ्च संस्कार हुआ है और एक श्रीवैष्णव की शारीरिक रूप रखता है। “वरदराजन् श्री वेदान्ती जीयर् (नन्जीयर्) के दिव्य विचारों को समझते हैं और तुरंत उन्के सामने खुदको सोंप देते हैं और कहते हैं, “कृपया मुझे अपनी संतुष्टि तक के लिए शुद्ध करें। मैं आपकी सेवा में हूँ”।

श्री वेदान्ती जीयर् (नन्जीयर्), श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै)

यह सुनकर, श्री वेदान्ती जीयर् (नन्जीयर्) बहुत खुश हो जाते हैं। वह वरदराजन् को स्वीकार करते हैं और उसे पूरा आशीर्वाद देते हैं। वह ९००० पडि व्याख्या (व्याख्यात्मक निबंध) को पूरी तरह से वरदराजन् को बताते हैं और उससे इसकी प्रतिलिपि बनाने के लिए कहते हैं। वरदराजन् स्वीकार करते हैं और कहते हैं कि वह अपने स्थान जाकर कार्य पूरा करेंगे और श्री वेदान्ती जीयर् (नन्जीयर्) के पास वापस लौटेंगे। श्री वेदान्ती जीयर् (नन्जीयर्) प्रस्ताव स्वीकार करते हैं। तो वरदराजन्, अपने गांव में जाने के लिए कावेरी नदी पार करने के लिए, नदी भर में तैरना शुरू करते हैं। वह एक कपड़े में मूल ग्रन्थम् को लपेटते हैं और तैरना शुरू करते समय उसे अपने सिर पर रखते हैं। एक बड़ी लहर उभरती है और अचानक मूल ग्रन्थम् नदी के साथ बह जाता है। वरदराजन् ग्रन्थम् के नुकसान के कारण बहुत पीड़ित हो जाते हैं और सोचते हैं कि क्या करें। उसके बाद, वह मूल ग्रन्थम् लिखना शुरू करते हैं जिसे श्री वेदान्ती जीयर् (नन्जीयर्) ने उसे आशीर्वाद दिया (सिखाया)। चूंकि वरदराजन् तमिऴ् में एक विशेषज्ञ है, इसलिए वह गहराई से अर्थ के साथ टिप्पणी में उचित स्पष्टीकरण भी जोड़ते हैं। उसके बाद वह श्री वेदान्ती जीयर् (नन्जीयर्) के पास जाते हैं और नई प्रतिलिपि श्री वेदान्ती जीयर् (नन्जीयर्) के कमल चरणों में जमा करते हैं। श्री वेदान्ती जीयर् (नन्जीयर्) मानते हैं कि जैसा कि उन्होंने पहले लिखा और समझाया, वैसे ही, विभिन्न स्थानों पर विशेष अर्थ और विस्तार थे और बेहद प्रसन्न हो गए। वह पूछता हैं “यह बहुत सुंदर है, लेकिन मैंने जो कुछ समझाया उससे थोड़ा अलग है। क्या हुआ?”। वरदराजन् डर से चुप रहते हैं और श्री वेदान्ती जीयर् (नन्जीयर्) उसे प्रोत्साहित करते हैं “चिंता मत करो, बस सच बताओ”। वरदराजन् तब बताते हैं “चूंकि कावेरी में पानी प्रवाह तेज था, इसलिए मैंने अपने सिर पर मूल ग्रन्थ रखा और तैरना शुरू किया। लेकिन जब एक बड़ी लहर आई, तो मूल ग्रन्थम् नदी में बह गया। मैंने इसे अपनी स्मृति से आपकी दया के आधार पर लिखा है” ।श्री वेदान्ती जीयर् (नन्जीयर्) वरदराजन् की स्मृति और बुद्धि की महिमा कर उसे गले लगाता हैं। उन्होंने घोषणा की कि वरदराज “नम्मुडैय पिळ्ळै तिरुक्कलिकन्ऱिदासर्” – हमारे प्यारे पिळ्ळै तिरुक्कलिकन्ऱि हैं – और उसे हमेशा अपने सम्पर्क में रखते हैं और उसे सभी गहन अर्थ बताते हैं। हमारे जीयर् (मामुनिगळ्) कहते हैं कि ” जिस दिन से, श्री वेदान्ती जीयर् (नन्जीयर्) ने वरदराजन्” को श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) “कहा, उन्हें श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) के नाम से जाना जाने लगा।

हमारे जीयर् ने इन घटनाओं को उपदेस रत्न माला के ५० वें पासुर में समझाते है..

नम्पेरुमाळ् नम्माऴ्वार् नन्जीयर् नम्पिळ्ळै एन्बर्
अवरवर् तम् एट्रत्ताल्
अन्बुडैयोर् शाट्रु तिरुनामङ्गळ् तान् एन्ऱु नन्नेन्जे!
एत्तदनैच् शोल्लि नी इन्ऱु

सरल अनुवादः

श्री रंगनाथ (नम्पेरुमाळ्), श्री शठकोप (नम्माऴ्वार्), श्री वेदान्ती जीयर् (नन्जीयर्) और श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) उनके नाम की विशेष महिमा के कारण, “नम् – हमारे” उपसर्ग के साथ नामकरण किया था। (इसको ऐसे भी समझाया गया है – श्री रंगनाथ (नम्पेरुमाळ्) ने श्री शठकोप स्वामी को नम्माऴ्वार् के रूप में। श्री वेदान्ती जीयर् (नन्जीयर्) ने वरदराजन् को श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) के रूप में सम्मानित किया)। उन्हें ये प्रिय नाम उन लोगों के द्वारा दिया गया था जो उनके लिए बहुत प्रिय हैं। ओह प्रिय दिमाग! आप इन घटनाओं को अभी पढ़कर उन घटनाओं की भी महिमा इन नामों का जप करते हैं।

श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) की महिमा इस प्रकार है कि “इस दुनिया में कोई भी इंद्र, ब्रह्मा, रुद्र, स्कंद आदि के शब्दों को नहीं सीख पाएगा। अगर कोई सिर्फ कुछ शब्दों को उठाएगा (जो मोती की तरह हैं) तो हर कोई इतना अमीर होगा। नम्-भूर्-वरदर् (नम्पिळ्ळै) के महल से”। अनुवादक का टिप्पणीः यह आसानी से नडुविल् तिरुवीदि पिळ्ळै भट्टर् (मद्यवीदि भट्टर्) के जीवन के चरम के साथ संबंधित हो सकता है जहां हमने राजा द्वारा बहुत सारे धन के साथ सम्मानित किया है, जिसमें श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) के व्याख्यान के आधार पर रामायण स्लोकम समझाया गया है। पूरी घटना ह्ट्ट्पः//गुरुपरम्परै.wओर्ड्प्रेस्स्.cओम्/2013/04/20/नडुविल्-तिरुविदि-पिल्लै-भट्टर्/ पर देखी जा सकती है।

अनुवादक का टिप्पणीः इस प्रकार हमने श्री वेदान्ती जीयर् (नन्जीयर्) के दिल को शुद्ध करने में भट्टर् (पराशर भट्टर्) की दिव्य दया देखी है और बदले में श्री वेदान्ती जीयर् (नन्जीयर्) की कुल निर्भरता और भट्टर् की ओर। हमने श्री वेदान्ती जीयर् (नन्जीयर्) और श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) के बीच बातचीत को भी देखा है जो आचार्य / शिष्य लक्षण को खूबसूरती से प्रदर्शित करता है।

जारी रहेगा…..

अडियेन भरद्वाज रामानुज दासन्

आधार – http://ponnadi.blogspot.com/2013/06/anthimopaya-nishtai-5.html

प्रमेय (लक्ष्य) – http://koyil.org
प्रमाण (शास्त्र) – http://granthams.koyil.org
प्रमाता (आचार्य) – http://acharyas.koyil.org
श्रीवैष्णव शिक्षा/बालकों का पोर्टल – http://pillai.koyil.org

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s