अन्तिमोपाय निष्ठा – ९ – श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) का वैभव २

श्री: श्रीमते शठकोपाय नमः  श्रीमते रामानुजाय नमः  श्रीमद्वरवरमुनये नमः श्री वानाचल महामुनये नमः

अन्तिमोपाय निष्ठा

<< आषाढ़ माह मूला नक्षत्र – रम्यजामात्रु और रम्यजामात्रुमुनि

पिछले लेख (अन्तिमोपाय निष्ठा – ८ – आषाढ़ माह मूला नक्षत्र – रम्यजामात्रु और रम्यजामात्रुमुनि) में हमने हमारे पूर्वाचार्यों के जीवन में घटित सबसे अद्भुत घटनाओं को देखा, जैसे, श्री रंगनाथ भगवान्, श्री वरवरमुनि (मामुनिगळ्) को अपने आचार्य के रूप में स्वीकार करते हुए और उनके लिए श्रीशैलेश दयापात्र तनियन् प्रस्तुत किया और सभी दिव्य देशों में इसका प्रचार किया। हम इस लेख में श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) की दिव्य महिमा वर्णन को जारी रखेंगे।

श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) के कमल चरणों में पश्चात् सुन्दर देशिक ( पिन्भऴगिय पेरुमाळ् जीयर्) – श्री रंगम

एक दिन, श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) ने जब भगवद्विषय व्याख्या समाप्त किया और हर कोई वापस चला जाता है, पश्चात् सुन्दर देशिक ( पिन्भऴगिय पेरुमाळ् जीयर्) नम्पिळ्ळै के सामने झुकते हैं और उनसे पूछते हैं “कृपया मुझे मेरी असली प्रकृति (जीवात्मा), साधन और अंतिम लक्ष्य” समझाएं। श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) ने जवाब दिया श्री रंगनाथ / श्री रामानुज (“एम्पेरुमान् / एम्पेरुमानार्) की इच्छा जीवात्मा को ऊपर उठाना है जो जीवात्मा को पोषित रखती है, उनकी दया ही साधन है और उनकी आनंददायक सेवा करना अंतिम लक्ष्य है”। पश्चात् सुन्दर देशिक ( पिन्भऴगिय पेरुमाळ् जीयर्) जवाब देते हैं “मैं ऐसा नहीं सोचता”। श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) कहते हैं, “क्या आपके पास एक अलग रास्ता है? कृपया अपने विचारों को प्रकट करें”। पश्चात् सुन्दर देशिक ( पिन्भऴगिय पेरुमाळ् जीयर्) कहते हैं, “मेरी प्रकृति उन श्रीवैष्णवों को आत्मसमर्पण करना है जो आपके कमल चरणों में आत्मसमर्पण कर रहे हैं, उनकी (उन श्रीवैष्णवों) दया मेरा साधन हैं और उनके (उन श्रीवैष्णवों) दिव्य चेहरे में खुशी मेरा अंतिम लक्ष्य है।

श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) के दिनों के दौरान, श्री दासरथि (मुदलियाण्डान्) के पोते कन्दाडै तोऴप्पर् श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) की महिमा देखकर ईर्ष्यावान थे। एक बार जब कन्दाडै तोऴप्पर् मंदिर में श्री रंगनाथ (पेरिय पेरुमाळ्) की पूजा कर रहे थे, तो श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) अपने कई शिष्यों के साथ वहां पहुंचे। बिना किसी भी कारण के और सिर्फ अपनी ईर्ष्या के कारण , कन्दाडै तोऴप्पर् श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) पर चिल्लाते हैं और उन्हे अपमानित करते हैं। यह सुनकर श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) इससे और आने वाले परिणामों से डरते हैं, जल्दी से श्री रंगनाथ (पेरिया पेरुमल) की पूजा करते हैं और अपने तिरुमाळिगै (निवास) में लौटते हैं। इस घटना को सुनकर, कन्दाडै तोऴप्पर् की पत्नी जो बहुत ज्ञानपूर्ण है, अपने पति के अपराधों के बारे में चिंतित हो जाती हैं और घर पर अपने सभी कैङ्कर्य बंद कर देती हैं और अपने पति की प्रतीक्षा करती हैं। जब कन्दाडै तोऴप्पर् आते हैं और देखते हैं कि उनकी पत्नी उनका स्वागत नहीं करती हैं और उनकी सेवा नहीं करती है, जैसे के वह आम तौर पर बाहर से घर लौटने पर करती है, तो वह उनसे पूछते हैं, “जिस दिन मैंने तुमसे विवाह किया था, तुमने मुझे अपने आचार्य के रूप में माना और मेरी अच्छी तरह से सेवा किया। लेकिन आज तुम मुझे पूरी तरह से अनदेखा कर रहि हो। क्या कारण है? ” और उन्होंने जवाब दिया “प्रिय स्वामी! आपने श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) का अपमान किया है जो खुद श्रीपरकाल (तिरुमङ्गै आऴ्वार्) का अवतार है और जो श्री रंगनाथ (पेरिय पेरुमाळ्) के सामने श्री रंगनाथ (पेरिय पेरुमाळ्) के लिए सबसे प्यारा हैं। आप अपने कार्यों के लिए भी खेद नहीं कर रहे हैं। मेरा आपके साथ कोई रिश्ता नहीं है अगर अब आप मुझसे नफरत करते हैं और मुझे दंडित करना चाहते हैं, तो आप मेरे शरीर को दंडित कर सकते हैं जो आपको मेरे माता-पिता द्वारा दिया गया है। जब मैं अपने आचार्य की आश्रय लिया था तो मैं पहले से ही ऊपर उठ गयी हूं। इस प्रकार, मेरा आपके साथ कोई रिश्ता नहीं होगा आप जिन्होंने भगवान के अपने शब्दों को जानने के बाद भी सबसे बड़ा अपराध किया है ‘कई करोड़ों जन्म के बाद भी मैं उन लोगों को माफ नहीं करती जो भागवत अपचार’ करते हैं। इसलिए, मैं अपने जीवन को अपने ही नेतृत्व में चलाऊंगी। ” यह सुनकर, थोड़ी देर के लिए कन्दाडै तोऴप्पर् आश्चर्यचकित हो जाते हैं। लेकिन उनके शब्दों पर विचार करने के बाद, वह अपनी गलती को महसूस करते हैं क्योंकि वह एक महान विद्वान थे और मुदलियाण्डान् के महान वंशावली में पैदा हुए थे। वह कहते हैं “जो भी आपने कहा है वह सही है। मैंने एक बड़ी गलती की है। अब मैं क्या कर सकता हूं?”। वह कहती हैं, “तालाब में कुछ खोज न करें, जब आप इसे नदी में खो दिया हैं”। वह पूछते हैं “तुम्हारा क्या मतलब है?” और वह जवाब देती है “चूंकि आपने श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) के खिलाफ अपराध किया है, इसलिए सबसे दयालु श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) के कमल चरणों में जाए और गिरें और उनसे क्षमा मांगें। वह आपको निश्चित रूप से माफ़ करेंगे और आपको अपने दुखों से मुक्त कर दिया जाएगा”। तब वह कहते हैं, “चूंकि मैंने श्री रंगनाथ (पेरिय पेरुमाळ्) के सामने उनहें अपमानित करने का सबसे बड़ा अपराध किया है, इसलिए मैं उनके सामने जाने से बहुत शर्मिंदा महसूस करता हूं। कृपया मेरे साथ रहें और मुझे क्षमा मांगने के लिए प्रेरित करें।” वह स्वीकार करती हैं और वे दोनों अपने स्थान से प्रस्थान करते हैं।

इस बीच, श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) मंदिर से निकलकर अपने तिरुमाळिगै पहुंचे, अपने सभी शिष्यों को घर भेज दिया और सूरज डूबने तक उपवास किया। सूरज डूबने के बाद, वह अपने सिर को कपड़े से ढकते हैं और अकेले कन्दाडै तोऴप्पर् के निवास की ओर चलते हैं और बरामदे में इंतजार करते हैं। उस समय, कन्दाडै तोऴप्पर् और उनकी पत्नी, दीपक/दिया के साथ दरवाजा खोलती हैं ताकि श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) के निवास पर जा सके। वे (कन्दाडै तोऴप्पर् और उनकी पत्नी) देखते हैं कोइ कपड़े को ढके हुए लेटा है और पूछते हैं कि वह कौन है। श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) खुद को तिरुक्कलिकन्ऱि दास बताते हैं। कन्दाडै तोऴप्पर् वहां श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) को देख कर चौंक गए और उनसे पूछते हैं (फिर से अहंकार के कारण) “आपने मुझ पर नहीं चिल्लाया और मुझे श्री रंगनाथ (पेरिय पेरुमाळ्) के सामने अपमानित नहीं किया क्योंकि मैं यहां काफी प्रसिद्ध हूं। इसलिए, अब आप मेरा निजी तौर पर अपमान करने आए हैं “। श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) जवाब देते है “नहीं, मैं इसके लिए यहाँ नहीं आया है”। कन्दाडै तोऴप्पर् आश्चर्यचकित होकर उनसे पूछते हैं, “तो, आप यहाँ क्यों आए हो?” और श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) जवाब देते हैं, “मैं इतना महान पापी हूं कि मैंने इस तरीके से व्यवहार किया जिसने मुदलियाण्डान् के पोते को श्री रंगनाथ (पेरिय पेरुमाळ्) के सामने नाराज कर दिया। मैं यहां माफी मांगने आया हूं और आशा करता हूं कि आप मुझे माफ कर देंगे।” यह सुनकर, कन्दाडै तोऴप्पर् पूरी तरह से शुद्ध हो जाते हैं और श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) को गले लगाता हैं। तब वह कहते हैं, ” मैंने सोचा है कि आप कुछ शिष्यों के आचार्य हैं। लेकिन अब मुझे समझ में आया है कि आप पूरी दुनिया के आचार्य बनने के योग्य हैं। इसलिए, इस दिन से, आपको ‘लोकाचार्यर्’ ” के नाम से बुलाया जाएगा । उसके बाद वह अपने घर में श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) को आमंत्रित करते हैं, अपनी पत्नी के साथ उनकी बहुत सेवा करते हैं और श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) को यह बहुत पसंद आता हैं। वह श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) के कमल चरणों में सभी दिव्य अर्थों को सीखते हैं। इस घटना को हमारे जीयर द्वारा उपदेश रत्न माला के ५१ वें पासुर में समझाया गया हैः

तुन्नु पुगऴक् कन्दाडैत् तोऴप्पर् तम् उगप्पाल्
एन्न उलगारियनो एन्ऱुरैक्क
पिन्नै उलगारियन् एन्नुम् पेर् नम्पिळ्ळैक्कु ओन्गि
विलगामल् निन्ऱदेन्ऱुम् मेल्

सरल अनुवादः कन्दाडै तोऴप्पर् जो श्री रंगम में बहुत प्रसिद्ध थे, महान स्नेह से श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) को लोकाचर्य के रूप में घोषित किया। तब से, श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) प्रसिद्ध रूप से लोकाचार्य के रूप में जाने जाते हैं और यह नाम और प्रसिद्धिता हमेशा के लिए रह गई।

श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) कि महिमा असीमित हैं और निम्नलिखित पासुर और श्लोक से समझा जा सकता है।

इयल् शाट्रुऱै का हिस्सा – पिळ्ळै अऴगिय मणवाळ दास द्वारा प्रस्तुत

नेन्जत्तिरुन्तु निरन्तरमाग निरयत्तुय्क्कुम्
वन्जक्कुऱुम्बिन् वगैयऱुत्तेन्
मायवादियर् ताम् अन्जप्पिरन्तवन् चीमादवनडिक्कन्बुचेय्युम्
तन्जत्तोरुवन् चरणाम्बुयम् एन् तलैक्कणिन्ते

सरल अनुवादः श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) जो श्री वेदान्ति जीयर् (नन्जीयर्) (जिनसे मायावादि डरते थे) के प्रिय शिष्य हैं, के चरणकमलों मे आत्मसमर्पण करने से मेरे नरकगामी बुद्धि दोषों का निवारण हो गया।

नमामि तौ माधव शिष्य पादौ यत् सन्निधिम् सूक्तिमयीम् प्रविष्टाः
तत्रैव नित्यम् स्थितिमाद्रियन्ते वैकुण्ट सम्सार विरक्त चित्ताः

सरल अनुवादः मैं श्री वेदान्ति जीयर् (नन्जीयर्) के शिष्य – श्री कलिवैरि दास् (नम्पिळ्ळै) के चरणकमलों की पूजा करता हूं। उनके गौरवशाली शब्दों को सुनने के बाद, हम पूरी तरह से इस गौरवशाली भगवदानुभव में स्थित होंगे और दोनों संसार और श्रीवैकुण्ठ की ओर विचलन विकसित करेंगे।

श्रृत्वापि वार्त्ताञ्च यदीयगोश्ट्याम् गोश्ट्यन्तराणाम् प्रथमा भवन्ति
श्रीमत्कलिद्धवम्सन दास नाम्ने तस्मै नमस्सूक्तिमहार्णवाय

सरल अनुवादः मैं सूक्ति महार्णव (दैवीय शब्दों का महान महासागर – श्री कलिवैरि दास् (नम्पिळ्ळै)) की पूजा करता हूं जिसे श्रीमत् कलिद्वम्सन दास के रूप में जाना जाता है। उनके व्याख्यान में उनके शब्दों को सुनने के बाद, हम मानेंगे कि उनकी सभा किसी भी अन्य सभा से सबसे अच्छी है।

श्रीकृष्णपाद (वडक्कु तिरुवीधि पिळ्ळै) और उनकी पत्नी (दोनों श्री कलिवैरि दास् (नम्पिळ्ळै) के शिष्य और के करीबी विश्वासी हैं) भौतिकवादी जीवन से पूरी तरह से अलग हो गए थे और हर जगह और हर संभव तरीके से श्री कलिवैरि दास् (नम्पिळ्ळै) की सेवा कर रहे थे। इस तरह एक दिन, श्री कलिवैरि दास् (नम्पिळ्ळै) श्रीकृष्णपाद (वडक्कु तिरुवीधि पिळ्ळै) के तिरुमाळिगै (निवास) का दौरा करते हैं और हर कोई उनके कमल पैरों पर झुकता है। उस समय, श्री क्रिष्ण पाद (वडक्कु तिरुवीदि पिळ्ळै) की पत्नी एक गीली साड़ी पहने हुए श्री कलिवैरि दास् (नम्पिळ्ळै) की पूजा करती हैं। श्रीकृष्णपाद (वडक्कु तिरुवीधि पिळ्ळै अन्य महिलाओं से पूछते हैं कि वह एक गीली साड़ी क्यों पहनी हैं। उन्होंने (अन्य महिलाओं) जवाब दिया कि उन्होंने (श्रीकृष्णपाद (वडक्कु तिरुवीधि पिळ्ळै) की पत्नी) मासिक धर्म चक्र के बाद खुद को शुद्ध कर दिया है और इस तरह की स्थिति के बाद उनका (श्री कलिवैरि दास् (नम्पिळ्ळै)) का आशीर्वाद स्वीकार कर रही हैं। बहुत प्रसन्न होने के नाते, श्री कलिवैरि दास् (नम्पिळ्ळै) ने उन्हें करीबी आने को कहा, उनके पेट को अपने दिव्य हाथों से छूते है और उन्हें आशीर्वाद देते हैं “आप को एक बेटा पैदा होगा जो खुद (श्री कलिवैरि दास् (नम्पिळ्ळै)) के रूप में गौरवशाली होगा”। यह देखकर, श्रीकृष्णपाद (वडक्कु तिरुवीधि पिळ्ळै) समझते हैं कि एक बच्चा बनना उनके आचार्य को प्रसन्न करेगा और उनकी पत्नी के अनुसार कार्य करेगा। इसके बाद, वह गर्भवती हो जाती है और एक वर्ष में वह एक दिव्य बच्चे को जन्म देती हैं। श्रीकृष्णपाद (वडक्कु तिरुवीधि पिळ्ळै ने उन्हें श्री कलिवैरि दास् (नम्पिळ्ळै) के दिव्य नाम “लोकाचार्य” के नाम से नामकरण किया है (जिसे प्रसिद्ध रूप से पिळ्ळै लोकाचार्य के नाम से जाना जाता है) और उनके आचार्य के प्रति कृतज्ञता दिखाता है।

श्री कलिवैरि दास् (नम्पिळ्ळै), श्री क्रिष्ण पाद (वडक्कु तिरुवीधि पिळ्ळै, पिळ्ळै लोकाचार्यर्, अऴगिय मणवाळ पेरुमाळ् नायनार्

इस प्रकार, श्रीकृष्णपाद (वडक्कु तिरुवीधि पिळ्ळै) के बेटे पिळ्ळै-लोकाचार्य का जन्म श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) के दिव्य आशीर्वाद से हुआ था। जीवात्माओं को ऊपर उठाने के लिए, अपने दैवीय और निर्दोष दया से, पिळ्ळै-लोकाचार्य ने कई दिव्य ग्रन्थों जैसे तत्व-त्रय (http://ponnadi.blogspot.in/p/thathva-thrayam.html), रहस्य-त्रय (मुमुक्षुप्पडि आदि) लिखा।), श्रीवचन भूषण, आदि, और सबसे गोपनीय संदेशों को एक बहुत ही सरल तरीके से सिखाया। पिळ्ळै लोकाचार्य के जन्म के एक साल बाद, श्रीकृष्णपाद (वडक्कु तिरुवीधि पिळ्ळै) की पत्नी एक और खूबसूरत बच्चे को जनम देती हैं (श्री रंगनाथ की दिव्य दया से) इसका नाम अऴगिय मणवाळ पेरुमाळ् नायनार् (श्री रंगनाथ की याद में) रखा गया है। उन्होंने हमें एक दिव्य ग्रन्थ के साथ आशीर्वाद दिया जिसका नाम आचार्य-हृदय है (जो श्री शठकोप (नम्माऴ्वार्) के दिव्य हृदय को प्रकट करता है)।

इस प्रकार, लोकाचार्य (श्री कलिवैरि दास् (नम्पिळ्ळै)) जो एक विशेष अवतार थे (श्री परकाल (तिरुमङ्गै आऴ्वार्)) ने एक शानदार जीवन जीया। मेरे आचार्य (श्री वरवरमुनि (मामुनिगळ्)) ने कहा कि उनके पिता तिगऴक्किडन्तान् तिरुनावीऱुडैयपिरान् तातरण्णर् श्री कलिवैरि दास् (नम्पिळ्ळै) के शिष्य बन गए जब वह ५ साल के, अपने बुजुर्गों के मार्गदर्शन में थे ।

अनुवादक का टिप्पणीः इस प्रकार, हमने श्री कलिवैरि दास् (नम्पिळ्ळै) की दिव्य महिमा देखी और इसका पूरी तरह से आनंद लिया है। इन घटनाओं से यह अनिवार्य है कि आचार्य की दया परमपद के लिए सुरक्षित मार्ग सुनिश्चित करेगी और यहां पर आश्रम में रहने के दौरान, शिष्य सबसे उपयुक्त कैङ्कर्य में शामिल हो सकते हैं जो उनकी असली पहचान भी है।

जारी रहेगा ……

अडियेन भरद्वाज रामानुज दासन्

आधार – https://ponnadi.blogspot.com/2013/06/anthimopaya-nishtai-9.html

प्रमेय (लक्ष्य) – http://koyil.org
प्रमाण (शास्त्र) – http://granthams.koyil.org
प्रमाता (आचार्य) – http://acharyas.koyil.org
श्रीवैष्णव शिक्षा/बालकों का पोर्टल – http://pillai.koyil.org

 

 

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s