अन्तिमोपाय निष्ठा – १० – श्री रामानुज के शिष्य

श्री: श्रीमते शठकोपाय नमः  श्रीमते रामानुजाय नमः  श्रीमद्वरवरमुनये नमः श्री वानाचल महामुनये नमः

अन्तिमोपाय निष्ठा

<< श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) का वैभव २

पिछले लेख (अन्तिमोपाय निष्ठा – ९ – श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) का वैभव २) में हमने नम्पिळ्ळै की दिव्य महिमा देखी। हम इस लेख में श्री रामानुज के विभिन्न शिष्यों के साथ घटित विभिन्न घटनाओं का क्रम जारी रहेगा।

एक बार श्रीरामानुजाचार्य स्वामीजी के समय के दौरान, अरुळाळ पेरुमाळ् एम्पेरुमानार् (श्रीदेवराजमुनि स्वामीजी) बीमार पड गये थे। उनकी रोगावस्था को जानकर भी श्रीकूरत्ताऴ्वान् (श्रीकूरेश स्वामीजी) तुरंत नहीं गए लेकिन चार दिनों के बाद उनसे मिलने के लिए गये और उनसे पूछा, “जब आप बीमार थे तो आपने स्वयं का प्रबंधन कैसे किया?” तब अरुळाळ पेरुमाळ् एम्पेरुमानार् (श्रीदेवराजमुनि) जवाब देते हैं “आपके और मेरे बींच की मित्रता के स्थर पर, मैंने सोचा था कि आप आएंगे और मुझसे मिलेंगे जैसे ही आपने मेरी बीमारी के बारे में सुना होगा, लेकिन आपने मुझे अनदेखा कर दिया है और इस कारण मुझे गहराई से चोट लगी है। जब तक मैं श्रीआळवन्दार् (यामुनाचार्य स्वामीजी) के पास नहीं जाता हूं और उनके चरणकमलों की पूजा नहीं करता तब तक यह ठीक नहीं होगा “। इस घटना को पोन्नौलागाळीरो (तिरुवाय्मोऴि ६.८.१) पासुर व्याख्या में स्पष्ट रूप से समझाया गया है। (अनुवादक टिपण्णीः यहां संदर्भ यह है की, पोन्नौलागाळीरो पदिग में, श्रीनम्माऴ्वार (श्रीशठकोप) एक पक्षी को दूत के रूप में एम्पेरुमान् (श्री रंगनाथ) के पास भेजते हैं और उन्हें पूरा भरोसा है कि पक्षी एम्पेरुमान् (श्रीरंगनाथ) को अपने नियंत्रण में लेने में पूरी तरह से सक्षम है। लेकिन पक्षी तुरंत श्रीनम्माळ्ळवार (श्रीशठकोप स्वामीजी) की मदद नहीं कर रहा है। इसी प्रकार, अरुळाळ पेरुमाळ् एम्पेरुमानार् (देवराज मुनि) यह जानकर की श्रीकूरत्ताऴ्वान् (श्री कूरेश) के पास एम्पेरुमान् (श्री रंगनाथ) हैं, उनके नियंत्रण में और उन्हें तुरंत परमपद भी मिल सकता था लेकिन वह लंबे विलंब के बाद आए। इसलिए, वह कह रहे हैं, वह भावना केवल तब ठीक होगी जब वह परमपद तक पहुंच जाए और आळवन्दार् (यामुनाचार्य) के सामने झुक जाए जो पहले से ही परमपद में है)।

श्रीरामानुजाचार्य स्वामीजी के परमपद पहुँचने के बाद कुछ समय तक श्रीवडुगनम्बि (श्रीआन्ध्रपूर्ण स्वामीजी) जीवित थे। लेकिन, अंत में वह भी परमपद पहुँच गये। एक श्रीवैष्णव भट्टर् के पास जाता है और उनहें बताता है “श्रीवडुगनम्बि (श्रीआन्ध्रपूर्ण) परमपद पहुँच गये”। भट्टर् जवाब देते हैं, “आपको श्रीवडुगनम्बि (श्रीआन्ध्रपूर्ण स्वामीजी) के लिए ऐसा नहीं कहना चाहिए”। श्रीवैष्णव पूछता है “क्यों नहीं? क्या हम नही कह सकते हैं कि वह परमपद पहुँच गये?”। भट्टर् ने स्पष्ट रूप से समझाया कि परमपद प्रपन्नों और उपासकों के लिए आम है (जो भक्ति योग से गुजरते हैं और अपने स्वयं के प्रयासों से परमात्मा प्राप्त करते हैं) – श्रीवडुगनम्बि (श्रीआन्ध्रपूर्ण स्वामीजी) का ध्यान / केंद्र-बिंदु ऐसा नहीं है। फिर, श्रीवैष्णव पूछता है “तो, क्या उनके मन में कुछ और जगह है?” और भट्टर् बताते हैं “हां। आपको कहना चाहिए कि श्रीवडुगनम्बि (श्रीआन्ध्रपूर्ण स्वामीजी) एम्पेरुमानार् (श्रीरामानुजाचार्य स्वामीजी) के चरणकमलों को प्राप्त हुए” – यह मेरे आचार्य (मामुनिगल् / श्रीवरवरमुनि स्वामीजी) द्वारा समझाया गया है। श्रीआळवन्दार् (यामुनाचार्य स्वामीजी) ने स्तोत्र-रत्न की शुरुआत में घोषणा की “अत्र परत्रचापि नित्यम् यदीय चरणौ शरणम् मदीयम्” – संसार और परमपद में, मैं हमेशा नाथमुनि के कमल पैरों की सेवा करना चाहता हूं)। तिरुवरङ्गत्तु अमुदनार् (श्रीरंगनाथगुरु स्वामीजी) कहते हैं रामानुज-नूट्रन्दादि के ९५ वें पासुर “विण्णिन् तलै निन्ऱु वीडळिप्पान् एम्मिरामानुशन् मण्णिन् तलत्तुदित्तु मऱै नालुम् वलर्त्तनने” – परमपद से हमारे श्रीरामानुजाचार्य स्वामीजी जीवात्माओं को परमपद में कैङ्कर्य के अंतिम लक्ष्य का आशीर्वाद प्रदान करेंगे और जब वह इस संसार में प्रगट होंगे, उचित रूप से वेद शास्त्र स्थापित कर इस संसार के दोषों से मुक्त करेंगे)।

प्रज्ञ अरुळाळ पेरुमाळ् एम्पेरुमानार् (श्रीदेवराजमुनि स्वामीजी), (श्रीकूरत्ताऴ्वान्) श्रीकूरेशस्वामीजी के सुपुत्र भट्टर् हैं, परमाचार्य आळवन्दार् (श्रीयामुनाचार्य स्वामीजी), तिरुवरङ्गत्तु अमुदनार् (श्रीरंगनाथगुरु स्वामीजी) जो श्रीउडयवर् (श्रीरामानुजाचार्य स्वामीजी), (श्रीकूरत्ताऴ्वान्) श्रीकूरेशस्वामीजी इत्यादि की दिव्य महिमाओं को आचार्य निष्ठा के माध्यम से पूरी तरह से प्रकाशित करते हैं । इस प्रकार यह स्थापित किया गया है कि आचार्य के चरणकमलों पर कुल निर्भरता जो संसार और परमपद में शिष्य के लिए अतुल्य स्वामी है, संसार और परमपद में भगवान् के चरणकमलों पर कुल निर्भरता से कहीं अधिक है, जो सभी के लिये बराबर कहा जाता है, जिसे जितन्ते स्तोत्र के रूप में कहा गया है “देवानाम् दानवाञ्च सामान्यम् अदिदैवतम्” – भगवान् सभी प्राणियों के लिए आम है)। यही कारण है कि मामुनिगल् (श्री वरवरमुनि स्वामीजी ) ने श्रीरामानुजाचार्य स्वामीजी की ओर भी प्रार्थना की, “मैं आपके चरणकमल कब प्राप्त करूं?”, “हे यतिराज! (श्री रामानुज!) कृपया मुझे हमेशा अपनी सेवा में खुशी से संलग्न करें”।

हमारे जीयर् निम्नलिखित घटना बताते हैं। एक बार श्रीवैष्णव प्रसाद खा रहा था और श्रीकिडाम्बि-आचान् (श्रीप्रणतार्तिहर) स्वामीजी उसे पीने के लिये पानी दे रहे थे। लेकिन इसे विपरीत दिशा से सीधे देने (सेवा करने) के बजाय, वह इसे बाजु से दे रहे थे और इसके कारण श्रीवैष्णव को पानी को स्वीकार करने के लिए अपनी गर्दन को थोड़ा झुकाना और मोड़ना पड़ा। उडयवर् (श्रीरामानुजाचार्य स्वामीजी) ने यह दृश्य देखा और तुरन्त श्रीकिडाम्बि आचान् (प्रणतार्तिहर) को उनके रीढ़ (पीठ) पर धक्का देकर बताते हैं की “हमें अत्यधिक देखभाल के साथ श्रीवैष्णव की सेवा करनी चाहिए”। यह सुनते ही श्रीकिडाम्बि-आचान् (श्रीप्रणतार्तिहर) स्वामीजी उत्साहित होकर कहते हैं, “आप मेरे दोषों को साफ़ कर रहे हैं और मुझे सेवा में और अधिक आकर्षक बना रहे हैं और मैं इस तरह की दया के लिए बहुत आभारी हूं” और उनका आभार व्यक्त करते हैं।

मणिक-माला (मानिक्क-मालै) में, पेरियवाचान्-पिळ्ळै स्वामीजी निम्नलिखित घटना की पहचान कराते हैं। एक बार, श्रीउडयवर् (श्रीरामानुजाचार्य स्वामीजी) श्रीकूरत्ताऴ्वान् (श्रीकूरेशस्वामीजी) के साथ परेशान हो जाते हैं। वहां मौजूद कुछ लोग श्रीकूरत्ताऴ्वान् (श्रीकूरेशस्वामीजी) से पूछते हैं “अब श्रीउडयवर् (श्रीरामानुजाचार्य स्वामीजी) ने आपको धक्का दिया है, अब आप क्या सोच रहे हैं?” और श्रीकूरत्ताऴ्वान् (श्रीकूरेशस्वामीजी) जवाब देते हैं “चूंकि मैं पूरी तरह से श्रीभाष्यकार (श्रीरामानुजाचार्य स्वामीजी) के अधीन हूं, वह जो भी करते हैं उसे मैं स्वीकार करूंगा – चिंता करने के लिए कुछ भी नहीं”।

निम्नलिखित घटना की पहचान वार्तामाला में की जाती है। पिळ्ळै-उऱङ्ग-विल्लि-दास (धनुर्दास) स्वामीजी एक बार श्रीमुदलियाण्डान् (श्रीदासरथि) स्वामीजीके पास जाते हैं, उनके चरणकमलों पर झुकते हैं और पूछते हैं, “एक शिष्य को अपने आचार्य की ओर कैसे होना चाहिए?” और श्रीमुदलियाण्डान् (श्रीदासरथि) कहते हैं, “आचार्य के लिए, शिष्य एक पत्नी, शरीर और एक गुण की तरह होना चाहिए – यानी, एक पत्नी जो भी पति उसे बताएगा वह करेगी, एक शरीर जो भी आत्मा चाहता है वह करेगा और वस्तु द्वारा पैदा किया जाएगा “। पिळ्ळै-उऱङ्ग-विल्लि-दास (धनुर्दास) स्वामीजी इसके बाद श्रीकूरत्ताऴ्वान् (श्रीकूरेशस्वामीजी) के पास जाते हैं और उनसे पूछते हैं, “अाचार्य को अपने शिष्य के प्रति कैसे होना चाहिए?” और श्रीकूरत्ताऴ्वान् (श्रीकूरेशस्वामीजी) जवाब देते हैं, “शिष्य के लिए, आचार्य को पति, अात्मा और वस्तु को पसंद करना चाहिए – यानी, एक ऐसे पति की तरह जो पत्नी को सही तरीके से निर्देशित करता है, जैसे कि आत्मा, जो शरीर को नियंत्रित करता है और वह वस्तु जो गुण को धारण करता है” ।

एक बार, श्रीकूरत्ताऴ्वान् (श्रीकूरेशस्वामीजी) और श्रीमुदलियाण्डान् (श्रीदासरथि स्वामीजी) के बीच दिव्य मामलों पर चर्चा हुई और एक विषय सामने आया “क्या हम स्वानुवृत्ति प्रसन्नाचार्य (एक आचार्य जो शिष्य को दिव्य ज्ञान से आशीर्वाद देने से पहले कई कठोर परीक्षणों में डालते हैं) द्वारा मोक्ष के अंतिम लक्ष्य का आशीर्वाद देते हैं या कृपामात्र प्रसन्नाचार्य (एक आचार्य जो शिष्य में शुद्ध इच्छा के आधार पर शिष्य को दैवीय ज्ञान का आशीर्वाद देता हैं)? “। श्रीमुदलियाण्डान् (श्रीदासरथि स्वामीजी) कहते हैं, “मोक्ष केवल स्वानुवृत्ति प्रसन्नाचार्य के माध्यम से है” और श्रीकूरत्ताऴ्वान् (श्रीकूरेशस्वामीजी) कहते हैं, “मोक्ष कृपामात्र प्रसन्नाचार्य के माध्यम से है”। श्रीमुदलियाण्डान् (श्रीदासरथि स्वामीजी) का कहना है कि पेरियाऴ्वार (श्रीविष्णुचित्त स्वामीजी) कहते हैं, “कुट्रमिन्ऱि गुणम् पेरुक्कि गुरुक्कळुक्कु अनुकूलराय्” – किसी को अपने दोषों को दूर करना चाहिए और अपने आचार्य के प्रति अनुकूल कार्य करना चाहिए), हमें ऐसा भी करना चाहिए। श्रीकूरत्ताऴ्वान् (श्रीकूरेशस्वामीजी) कहते हैं, “ऐसा नहीं है”, जैसा कि मधुरकवि आऴ्वार् कहते हैं, “पयनन्ऱागिलुम् पाङ्गल्लरागिलुम् शेयल् नन्ऱागत् तिरुत्तिप् पणिकोळ्वान् कुयिल् निन्ऱार् पोऴिल् शूऴ् कुरुगूर् नम्बि” – यहां तक ​​कि अगर हम योग्य नहीं हैं और पर्याप्त परिपक्व नहीं हैं, तो उद्यानों से घिरे आऴ्वार-तिरुनगरि में रहने वाले श्रीनम्माळ्ळवार् (श्री शठकोप स्वामीजी) हमें शुद्ध करेंगे और हमें अपनी सेवा में संलग्न करेंगे) । हमें इसे अपने आप करने की कोशिश नहीं करनी चाहिए और इसके बजाय हमें मोक्ष के उच्चतम लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए आचार्य की दया पर निर्भर होना चाहिए। यह सुनकर कि श्रीमुदलियाण्डान् (श्रीदासरथि स्वामीजी) बहुत खुश थे। यह घटना मेरे आचार्य (मामुनिगल् (श्री वरवरमुनि स्वामीजी)) द्वारा सुनाई गई थी।

श्रीउडयवर् (श्रीरामानुजाचार्य स्वामीजी) अपनी दिव्य दया के द्वारा, एक कारण के रूप में किरुमिकण्डन् (क्रिमिकण्ठ शैवराजा) उद्धृत तिरुनारायणपुरम् कि यात्रा की। चूंकि मंदिर में कैङ्कर्य करने वाले इस वजह से पीड़ित थे, सोचते हैं, “हम केवल श्रीउडयवर् (श्रीरामानुजाचार्य स्वामीजी) के कारण इन समस्याओं का सामना कर रहे हैं, इसलिए कोई भी जो श्रीउडयवर् (श्रीरामानुजाचार्य स्वामीजी) से संबंधित है, मंदिर में प्रवेश नहीं करना चाहिए”, इस तरह के प्रभाव पर एक आदेश दिया गया था। श्रीकूरत्ताऴ्वान् (श्रीकूरेशस्वामीजी) हमारे सिद्धांत को स्थापित करने और किरुमिकण्डन् (क्रिमिकण्ठ शैवराजा) की सभा में जाकर स्वनेत्रों को सदा के लिए खो दिया और अंततः श्रीरंगम लौट आए। मंदिर में स्थिति को जाने बिना, वह पेरिय पेरुमाळ् (श्री रंगनाथ्) की पूजा करने जाते हैं और द्वार का रखवाला कूरताज़्ह्वान् (श्री कूरेश) को रोकता है। इसका अन्य साथी द्वारपाल श्रीकूरत्ताऴ्वान् (श्रीकूरेशस्वामीजी) को मंदिर में प्रवेश करने को कहा। श्रीकूरत्ताऴ्वान् (श्रीकूरेशस्वामीजी) द्वारपालों के दो अलग-अलग विचारों को सुनकर आश्चर्यचकित हुए और उनसे पूछा, “यहां क्या हो रहा है?”। वे जवाब देते हैं “राजा का आदेश है कि मंदिर के अंदर जाने की अनुमति श्रीउडयवर् (श्रीरामानुजाचार्य स्वामीजी) से संबंधित किसी भी व्यक्ति को नहीं है”। श्रीकूरत्ताऴ्वान् (श्रीकूरेशस्वामीजी) पूछते हैं “लेकिन तुम मुझे क्यों अनुमति दे रहे हो?”। उन्होंने जवाब दिया “श्रीकूरत्ताऴ्वान् (श्रीकूरेशस्वामीजी) ! दूसरों के विपरीत आप आत्म गुण संपन्न एवं निर्मल हृदय वाले हो, इसलिए हमने आपको मंदिर में प्रवेश करने की इजाजत दी”। यह सुनकर श्रीकूरत्ताऴ्वान् (श्रीकूरेशस्वामीजी) चौंक गये और पानी में एक चंद्रमा की तरह कांपना शुरू कर देते हैं। वह कुछ कदम पीछे चलते हैं और कहते हैं, “शास्त्र कहता है कि एक व्यक्ति आत्म गुण को अाचार्य संबंध (रिश्ते) का नेतृत्व करता है, लेकिन यहां मेरे मामले में, आत्म गुण एम्पेरुमानार् (श्रीरामानुजाचार्य स्वामीजी) के साथ अपने रिश्ते को गहरे दुःख के साथ छोड़ने के लिए अग्रणी हैं। वह आगे कहते हैं, “मेरे लिए, एम्पेरुमानार (श्रीरामानुजाचार्य स्वामीजी) के चरणकमल अंतिम लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए पर्याप्त हैं; मुझे एम्पेरुमानार् (श्रीरामानुजाचार्य स्वामीजी) के रिश्ते को छोड़कर भगवान् की पूजा करने की आवश्यकता नहीं है” और एम्पेरुमान् की पूजा किए बिना अपने तिरुमालि (निवास) लौट आते हैं। यह घटना हमारे जीयर् द्वारा सुनाई गई है।

तिरुविरुत्तम् व्याख्यान में समझाया गया है कि आळवन्दार् (श्रीयामुनाचार्य) पेहचानते हैं की एम्पेरुमानार (श्रीरामानुजाचार्य स्वामीजी) अपनी दया से कारण, खुद श्रीनम्माळ्ळवार (श्री शठकोप स्वामीजी) के रूप में दिखाई दिये। अऴगिय मणवाळ पेरुमाळ् नायनार् (रम्यजामात्रुदेव स्वामीजी) अपने आचार्य-हृदय में भी आश्चर्य करते हैं कि क्या चतुर्थ वर्ण में प्रगट हुए श्रीनम्माळ्ळवार (श्रीशठकोप स्वामीजी) कलियुग के अवतार हैं अर्थात् इससे पिछले युगों (सत्, त्रेता, द्वापर) मे क्या वह ब्राह्मण/क्षत्रिय/वैश्य वर्णस्थ अत्रि, जमदग्नि, दशरथ, वसुदेव/नन्दगोपाल इत्यादि के पुत्र के रुप में प्रगट हुए। (अनुवादक की टिपण्णी ः श्रीनम्माळ्ळवार (श्रीशठकोप स्वामीजी) की महिमा हर किसी को आश्चर्यचकित करती है कि क्या वह एम्पेरुमान् अर्थात् भगवान् के अवतार हैं, लेकिन वास्तव में हमारे पूर्वाचार्यों ने स्पष्ट रूप से समझाया की वह भगवान् के अवतार नही है। यहां संदर्भ यह है कि एम्पेरुमान् अर्थात् भगवान् यह दिखाने के लिए है कि वह स्वयं आचार्य पद को ग्रहण करना चाहता है क्योंकि यह वह सर्वोच्च स्थान है जिसपर जीव निर्भर कर सकता है)।

अनुवादक की टिपण्णीः इस प्रकार, हमने श्रीरामानुजाचार्य स्वामीजी के विभिन्न शिष्यों की निष्ठा और श्रीरामानुजाचार्य स्वामीजी में उनकी कुल निर्भरता का प्रकटीकरण को देखा।

जारी रहेगा………….

अडियेन भरद्वाज रामानुज दासन्

आधार – https://ponnadi.blogspot.com/2013/06/anthimopaya-nishtai-10.html

प्रमेय (लक्ष्य) – http://koyil.org
प्रमाण (शास्त्र) – http://granthams.koyil.org
प्रमाता (आचार्य) – http://acharyas.koyil.org
श्रीवैष्णव शिक्षा/बालकों का पोर्टल – http://pillai.koyil.org

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s