लोकाचार्य स्वामीजी की दिव्य-श्रीसूक्तियां – ११

श्रीः  श्रीमते शठकोपाय नमः  श्रीमते रामानुजाय नमः  श्रीमद्वरवरमुनये नमः  श्री वानाचलमहामुनये नमः

लोकाचार्य स्वामीजी की दिव्य-श्रीसूक्तियां

<< पूर्व अनुच्छेद

१०१) पिरिविल् गुणानुसन्धानम् पण्णि दरिक्कलाम् । अवन् सन्निदियिल् अवनैयोऴिय अरैक्षणमुम् मुकम् मारियिरुक्कुमतुक्कु मेर्पट्ट मुडिविल्लै

              सीता पिराट्टि श्रीरामचन्द्र और आण्डाळ् नाच्चियार् श्रीकृष्ण का ध्यान करते हुए

भगवद्विप्रलम्भ भाव मे, हमे भगवान् के दिव्य कल्याण गुणों का चिन्तन और अनुसन्धान करना चाहिये । परन्तु उनके समक्ष यानि उनके सङ्ग मे, हम अपने नेत्र और उन पर केन्द्रित विचारों को क्षण भर भी अलग नही कर सकते है । उनकी उपस्थिति मे अन्य वस्तु पर विचार करने का नीचाति नीच कार्य और कुछ भी नही है ।

अनुवादक की टिप्पणि — सीता पिराट्टि ने अशोक वन मे स्वयं का निर्वाह मात्र केवल भगवान् श्रीरामचन्द्र के दिव्य कल्याण गुणों का आश्रय लेकर इन गुणों का चिन्तन और अनुसन्धान किया । इस संसार मे रहते हुए आऴ्वारों ने भी भगवान् के दिव्य कल्याण गुणों का आश्रय लिया और विभिन्न दिव्यदेश सेवाओं मे सम्लग्न थे । परन्तु भगवती श्री आण्डाल देवी इन सभी से अलग थी । आण्डाल देवी प्रश्न करती है कि – मात्र गुणानुसन्धान से मै स्वयं की यह विप्रलम्भ भावोत्पन्न दुःख को कैसे दूर करूँ ? यह प्रश्न उस स्थिति से उत्पन्न हुआ है जब इनका विप्रलम्भ भाव इनको बहुत दुःख देने लगा । यही भाव भगवती श्री नाच्चियार तिरुमोळि ८.३ पद मे कहती हैं – गोविन्दन् गुणम् पाडि आविकात्तिरुप्पेने । देखिये क्या भाव है । इसी लिये तो वह सबसे अलग श्रेणि मे थी । जब भगवान् का प्रत्यक्ष दर्शन हो, हम स्वतः भगवान् के अतिरिक्त कुछ और भी नही देख सकते है । विष्णुसूक्त मे कहा गया है यथा – “सदा पश्यन्ति सूर्यः ” । अर्थात् नित्यसूरिगण सदैव भगवान् का ही दर्शन करते है । अमलनादिपिरान दिव्यप्रबन्ध मे तिरुप्पाणाळ्वार कहते हैं – “एन् अमुदिनैक् कण्ड कण्गळ् मत्तोन्रिनैक् काणावे” अर्थात् मेरे इन उभय नेत्रों को अमृत रूपी श्रीरङ्गनाथ का स्वरूप के अतिरिक्त कुछ और दर्शन ही नही करना है ।

१०२) तन्तामयरियाविट्टाल् आप्तर्वायिले केट्टरियवेणुम्

भगवद्रामानुजाचार्य और शिष्य वृन्द – आदर्श आचार्य और आदर्श शिष्य

जब जीव स्वस्वरूप ज्ञान से अनभिज्ञ रहता है तो ज्ञानराशिस्वरूप आचार्य से यह ज्ञान प्राप्त करना चाहिए ।

अनुवादक की टिप्पणि — जीवात्मा भगवान् का नित्य दास है । वह प्राप्त जड़ शरीर से भिन्न है । जब तक वह इस ज्ञान को यथारूप मे नही समझता है उसको तुरन्त आचार्य का उपागम प्राप्त करना चाहिए । आप्त का अर्थ है विश्वसनीय स्त्रोत । एक आचार्य जो अटूट आध्यात्मिक परम्परा जो भगवान् से प्रारम्भ होता है मे आते हैं वह अत्यन्त विश्वसनीय स्त्रोत हैं क्यों कि वह पूर्णतया शास्त्र पर निर्भर हैं और स्वयं भी आत्म-सिध्द हैं अतः दूसरों को यह सारभूततत्त्व समझाने के योग्य हैं । भगवान् श्री कृष्ण भगवद्गीता ४.३४ मे कहते हैं – तद्विद्धि प्रणिपातेन परि प्रश्नेन सेवया उपदेक्ष्यन्ति ते ज्ञानं ज्ञानिनस्तत्त्व दर्शिनः – अर्थात् उस व्यक्तित्व का सान्निध्य प्राप्त करो जो जिसने सत्य का दर्शन किया है, उसकी सेवा करो और भजो मन से । ऐसा गुरु जो स्वरूपसिद्ध तुम्हे यथार्थ ज्ञान प्रदान कर सकते है क्योंकि उन्होने सत्या का दर्शन किया है ।

१०३) आर्तनुक्कन्रो पलप्राप्तियुळ्ळतु

नम्माऴ्वार (श्रीशठकोप स्वामी) – जल्द भगवद्धाम पहुँचना चाहते थे

आर्त वह है जो इस भौतिक जगत मे स्वयं के निर्वाह को कठिन मानकर दुःखी होता है मानो जैसे अग्नी के कुण्ड मे बैठा हो । ऐसे भगवद्भक्त जो भगवान् पर पूर्णतया निर्भर है और इस शरीर और भौतिक जगत् से मुक्त होना चाहते है, मोक्ष प्राप्ति उनके लिये निश्चित है ।

अनुवादक की टिप्पणि — हमारे सत्साम्प्रदाय मे पूर्वाचार्य कहते हैं – दो प्रकार के प्रपन्न भक्त होते हैं यथा – 1) आर्त प्रपन्न (वह प्रपन्नात्मा जो एक और क्षण इस भौतिक जगत् मे नही रहना चाहता है) और तृप्त प्रपन्न (वह जो भगवद्-भागवत कैङ्कर्य करते हुए कुछ और समय तक इस भौतिक जगत् मे निर्वाह कर सकता है) । इन दोनों मे आर्त प्रपन्न को उच्चश्रेणि का माना गया है और उनकि मानसिक परिस्थिति समझाया गया है यथा – एक और क्षण इस अनित्य संसार मे नही रहने की इच्छा मानो जैसे अग्नी मे खडे हो । इस संसार की अग्नी उनको दहने लगी और असहनीय पीडा का अनुभव होने लगता है । वह शीघ्र इस संसार से मुक्त होकर परमपद मे पूर्णरूपेण भगवद्-कैङ्कर्य करना चाहते हैं । श्रीशठकोप स्वामी जी और अन्य आऴ्वार आर्तप्रपन्न की श्रेणि के अनन्य भक्त शिरोमणि हैं जैसे हमारे पूर्वाचार्य कहते हैं । श्रीशठकोप स्वामी प्रथम पासुर मे ही स्वयं की आर्तता को दर्शाते हुए कहते हैं – इस दास से और प्रतीक्षा नही होगी । मै और एक क्षण इस संसार मे रहने मे असक्षम हूँ ।

१०४) पुरुषकारम् मुन्नागत् तनपक्कल् पुगुन्तार्क्कुत्तन् तिरुवुळ्ळमिरन्गुम्

भगवती सीता देवी काकासुर को  भगवान् श्रीरामचन्द्र के प्रकोप से बचाते हुए

जब हम भगवान् का सान्निध्य भगवती (पिराट्टि) के पुरुषकार से प्राप्त करते हैं, भगवान् कृपा कर रक्षा करते हैं ।

अनुवादक टिप्पणि : पुरुषकार शब्द का क्या अर्थ है ? पुरुषकार का अर्थ इस प्रकार से है – वह कार्य जिसके माध्यम से नेक मनुष्य स्व-वचनबद्धता और स्वयं के विशेष गुणों को न्यायसङ्गत सिद्ध करता है । यहां पुरुषकार शब्द श्रीमहालक्ष्मी की ओर इंगित है जो भगवद्-विमुख एवं दुराचारी पापी जीवों को भगवान् के चरणों का सन्मार्ग मे लाने की विशेष भूमिका का कार्य निभाती हैं और इन जीवों के लिये भगवान् से विशेष प्रार्थना करती हैं ताकी भगवान् इन जीवों को अपना सके । ऐसे जीवों को स्व-चरणों का आश्रय देकर भगवान् मे कृपा, दया, वात्सल्येत्यादि गुण प्रकाशित होते हैं । कदापि इसका यह अर्थ नही की भगवान् मे ये गुण अलब्ध है परन्तु श्रीमहालक्ष्मी के विशेष अनुनय से भगवान् मे ये गुण स्वतः प्रकाशित होते हैं । श्रीमहालक्ष्मी का यह अनुरोधाभिनय है । जब हम भगवान् का सान्निध्य इस अनुरोध माध्यम से नहीं जाएंगे या प्राप्त नही करेंगे, (तो) जीवों के प्रति तटस्थ-स्वभाव भगवान् का होना और जीवों के कर्मााधार पर उन जीवों को यथोचित दण्ड देना का गुण प्रकाशित हो सकता है क्योंकि भगवान् स्वतन्त्र हैं । इसी लिए कहते कि भगवान् का सान्निध्य (को) भगवती श्रीमहालक्ष्मी के पुरुषकार के माध्यम से ही प्राप्त करना है । पिळ्ळै लोकाचार्य स्वग्रन्थ मुमुक्षुप्पडि मे इस विषय को लोकमान्य उदाहरण से समझाते हैं ।

१०५) संसारि मुक्तनानाल् अवनुडैय लीलोबकारणमुम् बोगोपकरणमुम् सममाय्त् तोट्ट्रक्कडवतु । आकान्तरमाण स्मृतियिल्लैये । तदीयत्वाकारत्ताले नित्य विभूतियोडोक्कत् तोट्टृमत्तनै

जब एक संसारि जीव (वह जीवात्मा जो भवसागर मे बद्ध है) मुक्त (भवसागर से मुक्ति पाकर परमपद पहुँचता है) होता है तो ऐसे मुक्त जीवों को भवसागर (लीला-विभूति) और भगवद्धाम (नित्य-विभूति) सदृश्य है । चूंकि मुक्तात्मा के विचार अब और कर्म-बद्ध नही है, अतः वह परलोक और इहलोक मे भेद नही करता क्योंकि यह दोनों ही भगवान् की सम्पत्ति है और पूर्णतया उनके अधीन मे है ।

अनुवादक की टिप्पणि : भगवान् सर्वव्यापी है । जब एक बद्ध जीवात्मा कर्म बन्धन से मुक्त होकर मुक्तात्मा होता है, वह भगवान् के सर्वव्यापकत्व को समझता है । यह ऐसी अवस्था है जब जीव समस्त वस्तुओं को स्वयं के अनुकूल मानता है । इसी कारणार्थ आऴ्वारों ने भगवान् के बहुरंगाभिव्यक्तित्व भौतिक जगत् का स्तवन किया है । श्रीशठकोप स्वामी इस बहुरंगाभिव्यक्तित्व भौतिक जगत् से स्तंभित है जिसका वैभव भगवान् ने स्वयं श्रीशठकोप स्वामी को तिरुवाय्मोऴि के ७.८  “माया वामने” पदिग (पासुर-दशक) मे दिखाया है । ” भगवान् का समस्त वस्तुओं मे सर्वव्यापकत्व, जीवात्माओं के लिए सदैव अनुकूल है ” इस भाव का अर्थ स्वयं पिळ्ळै लोकाचार्य ने यथा युक्त रीति से तत्त्वत्रय के चित-प्रकरण मे समझाया है और यथारूप समझने के लिए श्रीवरवरमुनि की व्याख्या अत्यन्त लाभ कारी है । श्रीनम्पिळ्ळै स्वामी स्वयं उदाहरण देकर कहते हैं – जैसे एक राजा के सु्न्दर राज भवन और विकराल कारागृह होते है परन्तु राज कुमार के लिए दोनों ही उसकी संपत्ति है । यथाभाव मे मुक्तात्माओं (या आऴ्वार जो इन मुक्तात्माओं के सदृश्य है या उनसे बेहतर है जब वह बद्धजीव थे) के लिए भगवत्संपत्ति (लीला और नित्य) विभूति दोनो ही सुखदायक है । यह भी तिरुवाय्मोऴि के ६.३.१ की व्याख्या मे समझाया गया है ।

१०६) स्वरूपम् विसतमानाल् नान् एन्नवुमाय् अडियेन् एन्नवुमाय्क काणिरुप्पतु

जब जीवात्मा का स्वस्वरूप ज्ञान यथार्थ भाव मे समझ जाए, तब ‘मै अर्थात् जीवात्मा’ शरीर नही अपितु आत्मा है और “मै भगवान् का नित्य दास हूँ” भाव दृढ़ता से स्थापित होता है ।

अनुवादक की टिप्पणि : तिरुवाय्मोऴि ८.८ – “कङ्गळ् शिवन्दु …” दशक मे, भगवान् जीवात्मा के स्वरूप तत्व को प्रकाशित करते हैं । इस दशक के प्रथम और द्वितीय पासुर मे, भगवान् प्रथमतः स्वस्वरूप और स्वयं की महत्ता दर्शाते हैं । तदनन्तर पासुरों मे, भगवान् , जीवात्मा के वास्तविक स्वरूप और महत्ता को प्रकाशित करते है । इस दशक के द्वितीय पासुर मे, श्रीशठकोप स्वामी कहते हैं – “अडियेन्‌ उळ्ळान् उडल् उळ्ळान् …” अर्थात् आप (भगवान्) जीवात्मा (अडियेन्‌ – यह दास) के अन्तर निवासी (अन्तर्यामी अर्थात् जो जीवात्मा मे परमात्मा स्वरूप मे विराजमान) है । श्रीशठकोप स्वामी विशेषतः यहाँ “एन् (अहम् वा मै)” शब्द का प्रयोग न कर “अडियेन्‌” शब्द का प्रयोग कर यह स्थापित करते हैं कि मुख्यतः जीवात्मा परमात्मा का नित्य दास है । अन्ततोगत्वा यह जीवात्मा शरीर से भिन्न है क्यों कि श्रीशठकोप स्वामी तुरन्त कहते हैं “उडल् उळ्ळान्” अर्थात् परमात्मा स्वरूप भगवान् मेरे अंदर विराजमान हैं ।

१०७) अभिमत विषयत्तै पिरिन्ताल् काण्डतेल्लाम् अतुवाय्त्तोत्तुम्

      श्रीसीता माता की खोज़ मे भगवान् श्रीराम
जब हम अपने प्रिय या प्रियतमा से विछिन्न या विलग होते हैं, तो वह सब उस व्यक्ति की तरह दिखेगा।
अनुवादक की टिप्पणि :

श्रीशठकोप स्वामी तिरुवाय्मोऴि ७.५.२ पासुर मे भगवान् श्रीरामचन्द्र के असंख्य एवं अपरिमित गुणों का वर्णन करते हैं । कर्म से बन्धित एक जीवात्मा की तुलना मे भगवान् श्रीरामचन्द्र को अनेक दुःखों को भोगना पड़ा जैसे उनकी प्रियतमा श्री सीता मैया से वियोग अर्थात् श्रीसीता मैया का राक्षस राज रावण के द्वारा अपहरण । श्रीमद्रामायण मे श्रीवाल्मीकि भगवान् कहते हैं जब श्रीसीता मैया का राक्षसराज रावण के द्वारा अपहरण होने के बाद, भगवान् श्रीरामचन्द्र अधोमुख होकर प्रियतमा श्रीसीता मैया को ढूँढना प्रारंभ करते हैं । इस विरह दशा के संभ्रम मे भगवान् श्रीरामचन्द्र को हर दृष्टिकोण, हर वस्तु मे श्रीसीता मैया ही दिखने लगी । ठीक इसी प्रकार इस दशक गाथा मे विप्रलंभ भाव मे पूरित श्रीशठकोप स्वामी को सर्वत्र और सर्व वस्तु भगवान् के संबंधित दृग्गोचर हुई । इस उक्त वाक्य की पुष्ठि श्रीशठकोप स्वामी के तिरुवाय्मोऴि ४.४ मण्णै इरुन्दु तुऴावि पदिग (दशक) मे दृग्गोचर है । इस विषय की और अधिक पुष्ठि और स्पष्टीकरण श्रीवरवरमुनि स्वामी तिरुवाय्मोऴि नूट्रन्दादि ३४वें पासुर मे करते हैं

यथा

मन्नुलगिल् मुन्कलन्दु माल्पिरिगयैयाल्
मारन् पेण्णिलमयैयाय्क्कादल् पित्तेरि
एन्निदिल् मुन् पोलि मुदलान पोरुलै अवनाय्निनैन्दु
मेल्विऴुन्दान् मयल्दनिन् वीरु

अर्थात् इस भौतिक जगत् मे भगवान् श्रीशठकोप स्वामी को दिव्य मानसिक अनुभव का सर्वप्रथम देते है । तदनन्तर श्रीशठकोप स्वामी को अनुभूति प्रदानकर भगवान् अन्तर्धान हो गए । भगवान् के अन्तर्धान होने से श्रीशठकोप स्वामी के मानस मे प्रगट विप्रलंभ भाव से उनको और अत्यन्त कष्ट हुआ । तत्पश्चात् अपरिमित भगवद्-प्रेम के प्रभाव प्रवाह से श्रीशठकोप स्वामी एक गोपकन्या (पराङ्कुशनायकी) का मानसिक रूप धारण कर भगवान् से तुल्य वस्तुओं को देखकर उनको स्वयं भगवान् मानने लगे और पुनः इन तुल्य वस्तुओं को देखकर अपरिहार्य भावावेश से संभ्रांत हुए ।

१०८) शेषियोरुवनानाल् शेषवस्तुक्कळेल्लाम् ओरुमिडरायिरुक्कुमिरे । ओरुवनक्कुप् पलवडिमै उण्डानै तङ्गळिल् एल्लार्गळुमोत्तिरुप्पर्गळिरे कृत सङ्गेदिगळाय् ।

पूर्वाचार्यों ने एक दूसरे से केवल भगवान् के विभिन्न माधुर्य लीलाओं की चर्चा से अपना समय बिताया है

भगवान् ही सभी चेतनाचेतनों के परम स्वामी एवं सर्वशेषी है । उनके सभी भक्तों का मनोभाव एक जैसा होता है । जब इस जगत् के किसी भी क्षेत्र का राजा है, उनके एक स्थिति वाले सेवकगण एक दूसरे से अपने राजा के वैभव चर्चा मे अपना समय व्यतीत करते हैं ।

अनुवादक की टिप्पणि :  इसी तरह भगवद्भक्त भगवद्-चर्चा मे अपना समय व्यतीत करते हैं । भगवान् श्रीकृष्ण भगवद्गीता १०.९ श्लोक मे अपने भक्तों के स्वभाव और दिव्य कार्यों का वर्णन करते हुए कहते हैं

मच्चित्ता मद्गतप्राणा बोधयन्तः परस्परम् ।
कथयन्तश्च मां नित्यं तुष्यन्ति च रमन्ति च ।

निरंतर मुझ में मन लगाने वाले और मुझ में ही प्राणों को अर्पण करने वाले (मुझ वासुदेव के लिए ही जिन्होंने अपना जीवन अर्पण कर दिया है उनका नाम मद्गतप्राणाः है।) भक्तजन मेरी भक्ति की चर्चा के द्वारा आपस में मेरे प्रभाव को जानते हुए तथा गुण और प्रभाव सहित मेरा कथन करते हुए ही निरंतर संतुष्ट होते हैं और मुझ वासुदेव में ही निरंतर रमण करते हैं ।

१०९) तन्नैयोऴिन्त वस्तुक्कळेल्लावत्तुक्कुम् कोटि विकारत्तैप् पण्णि अविकृतनायिरुप्पान् ओरुवनिरे ईश्वरन्

आरावमुदन् (तिरुक्कुदन्तै – कुम्भकोणम) और श्रीशठकोप स्वामी (आऴ्वार्-तिरुनगरि)

सभी चेतना चेतनों के स्वामी अर्थात् भगवान् को अविकाराय शुद्धाय शब्दों से श्री भीष्म पितामह ने सहस्रनाम मे संबोधित किया है  । अविकाराय अर्थात् अविकारि वा अपरिवर्तनशील । शुद्धाय अर्थात् परम सात्विक वा विशुद्ध । हालांकि भगवान् अविकारि वा अपरिवर्तनशील है परन्तु उनसे भिन्न सभी वस्तुओं मे विकार वा परिवर्तन को प्रवृत्त करते है ।

अनुवादक की टिप्पणि : तिरुवाय्मोऴि ४.८.१ पासुर में, श्रीशठकोप स्वामी कुम्भकोणम मे स्थित तिरुक्कुदन्तै दिव्यदेश के एम्पेरुमान् आरावमुदन् के सौन्दर्य का वर्णन कर रहे है की उनका अर्चा सौन्दर्य इतना अद्भुत है कि यह दास (श्रीशठकोप स्वामी) पूर्णतया द्रवित हो गया । ऐसे दिव्यदेश और अभिमान क्षेत्र अनेक है जिनके अर्चा प्रभाव से अन्य आऴ्वार् एवं आचार्यगण द्रवित हो गए । भगवान् को अविकारि वा अपरिवर्तनशील कहने मे तात्पर्य केवल यह है की भगवान् कर्म से बाध्य नहीं है । जीवों के प्रति दया, कृपा इत्यादि भगवद्गुणों के प्रभाव स्वरूपोत्पन्न भावों से भगवान् मे विकारत्व प्रतीत होता है ।

११०) वस्तु सत्भावम् कोळ्ळुम्पोतु विशेषणम् व्यावर्त्तकमायल्लतिरातु । ओन्ऱुक्कोन्ऱु विशेषणमाम्पोतु, अन्ययोगव्यवच्छेदम् पण्णिक्कोण्डल्लतु विशेषमागमात्ततु

मोक्ष दर्शाने वाला शास्त्र सदैव सविशेष (सगुण) ब्रह्मम् का ही प्रतिपादन करता है । एक वस्तु को जानते वा परखते समय, (उस) वस्तु के विशेष गुण (उस) वस्तु को अन्य वस्तुओं से भिन्न करता है ।  किसी भी वस्तु के गुण (उस) वस्तु का विशेष गुण एवं गुण तब माना नहीं जाएगा जब तक वह गुण उस वस्तु को दूसरें वस्तुओं के भिन्न करें ।

अनुवादक की टिप्पणि : “अयोग्य-व्यवच्छेदम्” अर्थात् वह वस्तु जो एक से अधिक गुणों से अभिज्ञात है । “अन्ययोग्य-व्यवच्छेदम्” अर्थात् वह वस्तु जो वस्तु विशेष गुण से अभिज्ञात है अर्थात् वह विशेष गुण केवल उसी वस्तु मे निहित है । उदाहरणार्थ अनन्त-शायित्व गुण वह गुण है जो केवल भगवान् श्रीमन नारायण के लिए ही अनुकूल और उनमे ही निहित है और यह गुण किसी अन्य वस्तु के लिए अनुकूल कदापि नहीं है । तिरुवाय्मोऴि के ६.३.१ पासुर नल्कुरुवम् चेल्वुम् के सन्दर्भ मे, श्रीनम्पिळ्ळै इस पङ्क्ति को निर्दिष्ट करते है । इस दशक मे भगवान् के विरुद्ध-विभूति का वर्णन करते हुए श्रीशठकोप स्वामी कहते है चेतनाचेन वस्तुओं का आश्रय भगवान् है और भगवान् मे विरोधाभास भाव है । उदाहरणार्थ — श्रीशठकोप स्वामी कहते है भगवान् दरिद्रता-धनता, स्वर्ग-नरक, मित्रता-रिपुता, इत्यादि विरोधाभास गुणों के धाम है । देखिए, वास्तविक्ता मे कोई भी वस्तु मे विरोधाभास गुणो का सामंजस्य होना असंभव है । लेकिन भगवान् से भिन्न वस्तुओं का आश्रय भी भगवान् ही है अत एव भगवान् मे ऐसे विरोधाभास गुण प्रतीत या प्रकाशित होते है । इस दशक मे श्रीशठकोप स्वामी भगवान् के विरोधाभास गुणों का आस्वादन कर परमानंद की अनुभूति प्राप्त करते है ।

अडियेन् सेट्टलूर सीरिय श्रीहर्ष केशव कार्तीक रामानुज दास

आधार – http://ponnadi.blogspot.in/2013/08/divine-revelations-of-lokacharya-11.html

प्रमेय (लक्ष्य) – http://koyil.org
प्रमाण (शास्त्र) – http://granthams.koyil.org
प्रमाता (आचार्य) – http://acharyas.koyil.org
श्रीवैष्णव शिक्षा/बालकों का पोर्टल – http://pillai.koyil.org

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s