विरोधी परिहारंगल (बाधाओं का निष्कासन) – ३८

श्रीः श्रीमते शठकोपाय नमः श्रीमते रामानुजाय नमः श्रीमद्वरवरमुनये नमः श्रीवानाचलमहामुनये नमः श्रीवादिभीकरमहागुरुवे नमः

“श्रीवैष्णवों को अपने दैनिक जीवन में कैसी चुनौतियों का सामना करना पड़ता है इसका उपदेश श्रीरामानुज स्वामीजी ने वंगी पुरत्तु नम्बी को दिया। वंगी पुरत्तु नम्बी ने उसपर व्याख्या करके “विरोधी परिहारंगल (बाधाओं को हटाना)” नामक ग्रन्थ के रूप में प्रस्तुत किया। इस ग्रन्थ पर अंग्रेजी में व्याख्या श्रीमान सारथी तोताद्रीजी ने की है उसके आधार पर हम लोग हिन्दी में व्याख्या को देखेंगे। इस पूर्ण ग्रन्थ की व्याख्या को हम लोग “https://goo.gl/AfGoa9”  पर हिन्दी में देख सकते है।

<– विरोधी परिहारंगल (बाधाओं का निष्कासन – ३७)

७१) सिद्धान्त विरोधी – सिद्धान्त को समझने में बाधाएं – भाग – २

 श्रीरामानुज स्वामीजी – श्रीपेरुमबदुर – वह जिन्होंने हमारे सिद्धान्त का प्रचार सही रीति से किया

हम पिछले विषय को जारी रखेंगे। अधिकत्तर विषय में ज्ञान कि आवश्यकता है जो शास्त्र के सही अध्ययन से प्राप्त कर सकते हैं। सम्पूर्ण और गहरी समझ के लिये इन सिद्धान्तों को आचार्य और विद्वानों के मार्गदर्शन में अध्ययन करना चाहिये।

  • सामानाधिकरण्यम (जो एक विषेय/वस्तु को अनेकों विशेषणों/सहजगुणों से समझाता है) के अनुसार विशेषणों की उपेक्षा करना और सिर्फ अंतर्निहित तत्त्वों को मानना बाधा है। शुक्ल पत अर्थात सफेदवस्त्र। यहाँ पदार्थ अर्थात वस्त्र है। सफेदी जिसे वस्त्र से अलग नहीं किया जा सके ऐसी एक विशेषता है। ऐसी अभिन्न विशेषताओं को विशेषणम् कहते हैं। अनुवादक टिप्पणी: सामानाधिकरण्यम को “बिन्न प्रवृत्ति निमित्तानाम शब्दानाम एकस्मिं अर्थे वृत्ति:” ऐसे परिभाषित किया जाता है – ऐसे वस्तु कि पहचान करना जिसके अनेक शब्द हो (विशेषता/अर्थ)। उदाहरण के लिये सफेद वस्त्र के विषय में सफेदी और वस्त्र दोनों वस्त्र की विशेषता है। इसलिये किसी एक पदार्थ को अनेक पहलूओं की ओर अंकित करना ही सामानाधिकरण्यम है। यह समझने के लिये एक मुख्य तत्त्व है। यह हमारे विशिष्टाद्वैत सिद्धान्त के लिये एक मुख्य तत्त्व है। ब्रह्म एक विशेष्य (पदार्थ) है और वही आधार (सहारा/नीव) है। चित्त और अचित्त यह विशेषण है और अधेय हैं। पदार्थ और विशेषताएं दोनों अभिन्न हैं। यहाँ कुछ सिद्धान्त चित्त और अचित्त को र्निलक्ष्य करते हैं और केवल ब्रह्म पर हीं केन्द्रीत होते हैं। पर यह सही नहीं है। श्रीरामानुज स्वामीजी वेदार्थ संग्रह में इन सिद्धान्तों को बड़ी सुन्दरता से विस्तार से व्याख्या किये है। इसे पूर्ण समझने के लिये आचार्य के कालक्षेप के जरिये सुनना चाहिये।
  • यह न समझना कि एक मात्र ब्रह्म हीं (विशेषताओं के साथ) सिर्फ ब्रह्मा के अनूठे लक्षणों को दर्शाता हैं (ब्रह्म का अर्थ – आत्मा और पदार्थ अमान्य/अवास्तविक नहीं बनाना) यह बाधा है। एक विशेषण विशिष्ट ऐक्यार्त्ता परम – एक पदार्थ जिसकी विशेषताओं से वह जुड़ा हो। श्रृति कहती है “स  ब्रह्मा, शशिव: सेंध्र:”। सा का अर्थ – “वह” – “जो एक श्रेष्ठ पुरुष है”। वह ब्रह्मा है, वह शिव है, वह इन्द्र है। यहाँ इसका अर्थ ब्रह्म, शिव, इन्द्र शरीर विशेषण है और श्रीमन्नारायण शरीर विशेष्य है। अनुवादक टिप्पणी: वेदों में तीन भाग पहचाने गये हैं – भेद श्रृति (वह जो भिन्न तत्त्वों के विषय में बताते हैं), अभेद श्रृति (वह जो एक मात्र ब्रह्म के बारे में बताते हैं) और घटक श्रृति (वह जो ब्रह्म और चित्त/अचित्त आदि विशेषताओं के सम्बन्ध विषय में बताते हैं)। अन्य सिद्धान्त भेद या अभेद श्रृति में केन्द्रित होते है और विशिष्टाद्वैत सिद्धान्त भेद और अभेद श्रृति को घटक श्रृति के साथ मिलाकर इनमें समंजस स्थापित करते है। जहाँ एक मात्र ब्रह्म के लिये ज़ोर दिया जाता है उसे घटक श्रृति के सन्दर्भ में समझना चाहिये जो शरीर/शरीरी के सम्बन्ध के बारे में और विशेषण/विशेष्य के सम्बन्ध चित्त/अचित्त व ब्रह्म के बारे में ज़ोर देकर बताते हैं। इन दोनों विषयों में मुख्यत: मायावाद (वह सिद्धान्त जो सिर्फ ब्रह्म को स्वीकार करता हैं और अन्य सभी को मायावी मानते हैं) को अस्वीकार करते हैं। श्रीशठकोप स्वामीजी इसे श्रीसहस्रगीति के – “कूडिट्रागिल् नल्लूरैप्पू” पाशुर में समझाते हैं। सभी व्याख्यानों में इसी तरह के सिद्धान्तों को समझाया गया है। जीवात्मा ब्रह्म के समान हैं ऐसा कोई राह नहीं हैं। क्योंकि एक वस्तु दूसरे के लिये नहीं होता है – जीवात्मा जीवात्मा ही रहेगा और परमात्मा परमात्मा ही रहेगा।
  • यह न जानना कि विविधता जो यह स्थापित करें कि भगवान से स्वतन्त्र कुछ नहीं है को नकारना बाधा है। नानात्व विषेधम – विविधाओं को नामंज़ूर करना। “एकमेव अधविधियम, नेहनानास्ति किञ्चन:” श्रृति में मौजूद है। केवल एक तत्त्व है – दूसरा कोई नहीं है। यहाँ विविधता को नकारा गया है। परन्तु यह नकारना केवल उन तत्त्वों के लिये हैं जो ब्रह्म से स्वतन्त्र है। क्योंकि ब्रह्म हीं सबका अन्तरात्मा है और सबकुछ ब्रह्म में व्याप्त है। ऐसा कुछ भी नहीं है जो ब्रह्म में व्याप्त न हो।
  • यह न जानना कि सम्हार के समय चित्त और अचित्त को नकारना उनकी सूक्ष्म उपस्थिती को दर्शाता है बाधा है। ब्रह्माण्ड से संबन्धित सामान्य कार्यों में विनाश एक तीसरा पहलू है। सृष्टि (निर्माण करना), स्थिति (भरण पोषण) और संहार (विनाश) ये तीन पहलू हैं। संहार के समय चित्त और अचित्त दोनों पूर्ण नष्ट नहीं होते हैं। वे शाश्वत तत्त्व हैं। वे अपनी विशाल अवस्था से सूक्ष्म रूप में परिवर्तित होते हैं और ब्रह्म उन्हें पा लेते हैं। सृष्टि के समय भगवान पुन: उन्हें अपना विशाल रूप प्रदान करते हैं। अनुवादक टिप्पणी: इस तत्त्व को श्रीरंगामृत स्वामीजी श्रीरामानुज नूत्तन्दादि के ६९वें पाशुर में अच्छी तरह समझाते है। “चिन्तैयिनोडु करणंगल् यावुम् शिदैन्दु मुन्नाल अन्दमुत्तालन्ददु कण्डु” – प्रलयकाल से पहले जब मन, दूसरी इंद्रियाँ और शरीर स्थूल रूप छोड़कर उपसंहृत हुए थे और आत्मा अचेतन सा रह गया। उस स्थिति में चित्त जो प्राकृतिक रूप से सूक्ष्म है और अचित्त जिसने सूक्ष्म रूप धारण किया है वह अविभेध्य हो जाते हैं। फिर भी उनका अस्तित्व है। तीनों तत्त्व – चित्त, अचित्त और ईश्वर यह सभी बाहरी हैं। चित्त को स्वभाव विकारम है (लक्षण को बदलने का ज्ञान जैसे फैलना और सिकुड़ना अवस्था)। अचित्त में स्वरूप विकारम है (स्वयं के स्वभाव को बदलना जैसे विशाल से सूक्ष्म और विशालता में भिन्न भिन्न स्वरूप, आदि)। ईश्वर जो सभी विकारों के रहित है।
  • यह न समझना कि शोधक वाक्य में नकारने के गुण अशुभ गुणों को नकारने की ओर पृवत करते हैं – बाधा है। कुछ वाक्य हैं जो ब्रह्म को निर्गुण बताते हैं। इनका अर्थ है ब्रह्म अशुद्ध गुणों के रहित है। क्योंकि ब्रह्म प्रारम्भ से ही प्रमाणित है कि “अखिल हेय प्रतिपत कल्याण गुणेक तान” – वह सभी अभद्र गुणो के रहित हैं और अच्छे गुणों का भण्डार हैं। अनुवादक टिप्पणी: ब्रह्म का दो प्रकार से वर्णन किया गया है – कारण वाक्य (वह वाक्य जो ब्रह्म हीं सभी कार्यों के कारण है चर्चा करता हैं) और शोधक वाक्य (वह वाक्य जो ब्रह्म के सभी विशेष गुणों कि चर्चा करता हैं)। “यतो वा इमाणी भूतानि जयते, येन जाथाणी जीवन्ति, यत्प्रयन्ति अभीसमविचन्ति, तत विजीजन्यासस्व, तत ब्रह्मेति” कारण वाक्य का एक उदाहरण है। यह समझाता है कि – वह जहाँ से इस ब्रह्माण्ड और जीवों का उत्पन्न हुआ, जिसके द्वारा पूरे ब्रह्माण्ड का निर्वाहण होता है, विनाश के समय जिसमें वह मिल जाता है, जिसे प्राणी मोक्ष के समय प्राप्त करता है, उसे समझे और ब्रह्म को समझाये। अत: जगत कारणत्व (ब्रह्माण्ड का कारण होना), मुमुक्षु उपास्यत्व (मोक्ष पाने के इच्छुक के लिये पूजा करने का बहाना) और मोक्ष प्रदत्व (जीवात्मा को मोक्ष प्रदान करने में सक्षम) यह श्रेष्ठ होने के मुख्य गुण पहचाने गये हैं। “सत्यम ज्ञानम् अनन्तम् ब्रह्म” यह शोधक वाक्य का उदाहरण हैं। यह ब्रह्म नित्य, सर्वज्ञ और अनन्त (समय, स्थान और पदार्थ से) हैं को समझाता है। अत: शोधक वाक्य को अच्छी तरह समझना चाहिये।
  • जो वाक्य भगवान के पवित्र गुणों को दर्शाते हैं उन्हें अनदेखा करना बाधा है। जैसे समझाया गया है “य:  सत्यकाम: सत्य संकल्प:” – वह पवित्र गुणोंवाला है। उन्हें अनदेखा करना बाधा है। अनुवादक टिप्पणी: श्रीशठकोप स्वामीजी श्रीसहस्रगीति का प्रारम्भ “उयरवरु उयर नलं उदैयवन यवन” से करते है – वह जो पूरी तरह पवित्र गुणोंवाला है। श्रीकुरेश स्वामीजी अपने शिष्य पिल्लै आल्वान को समझाते हैं कि श्रीशठकोप स्वामीजी पवित्र गुणों की घोषणा से प्रारम्भ करते हैं और इससे वे कुदृष्टि की जीवन रेखा पर सीधे प्रहार करते हैं (कुदृष्टि – जो वेदों को गलत तरीके से प्रस्तुत करते हैं) जो निरन्तर कहते हैं कि ब्रह्म गुणों के रहित है।
  • यह न समझना कि ब्रह्म के रूप के लिये असहमती बताना जो यह दर्शाता है कि ब्रह्म अपने पूर्व कर्मों से कोई रूप धारण नहीं करता (बजाय इसके कि ब्रह्म अपनी इच्छा से रूप धारण करता है) – यह बाधा है। “नाथे रूपम नचाकार:” – उनका कोई रूप, कद, आदि नहीं है, जो सांसारिक शरीर पर केन्द्रित है जो उसके कर्मों द्वारा प्राप्त होता है। हमें यह समझना चाहिये कि भगवान अपने इच्छा से विभिन्न रंग बिरंगे रूप को धारण करते हैं।
  • भगवान के रूप के वाख्याओं को अनदेखा करना बाधा है। हमें यह पूर्ण विश्वास होना चाहिये कि परमपुरुष का रूप सबसे अधिक सुन्दर हैं। चांदोज्ञ उपनिषद में एक प्रसिद्ध पद है “अंतराधीत्ये हिरणमय: पुरुषोदृश्यते – तस्ययता कप्यासम पुण्डरीकमेवमाक्षिणी” – सूर्य गृह के मध्य में एक व्यक्ति जो तेजस्वी सूर्य के समान चमकता है नजर आता हैं। उसके दोनों नेत्र कमल पुष्प को संभोधित करते हैं जो सूर्य की तरह यौवन हैं। ऐसे विषयों को न जानना बाधा है। अनुवादक टिप्पणी: ऋग वेद में घोषणा किया गया हैं कि “स यु श्रेयां भवति जायमान:” – भगवान जब इस संसार में अवतार लेते है तब वें अधिक सराहनीय हो जाते हैं। भगवद्गीता के ४थे अध्याय में भगवान श्रीकृष्ण अपने अवतार का रहस्य (अपने अवतार की गोपनियता को विस्तृत रूप से बताना) के विषय में बताते हैं। ५वें श्लोक में वें अर्जुन को समझाते हैं कि “मैं और तुम हम दोनों कई बार जन्म ले चुके हैं। हालाँकि तुम्हें अपने पूर्व जन्मों की कोई जानकारी नहीं है लेकिन मैं तो अपने पूर्व जन्मों के विषय में पूर्ण जानता हूँ”। अगले श्लोक में वें कहते है “हालाँकि मैं अजात हूँ, परिवर्तन/विनाश के लिये मैं उत्तरदायी नहीं हूँ और सबका स्वामी हूँ, अपने संकल्प से बारम्बार जन्म लेता हूँ”। अगले श्लोक में वें कहते हैं कि “जब भी धर्म का नाश होता है और अधर्म बढ़ता हैं तब उस समय मैं स्वयं अवतार लेता हूँ”। अगले श्लोक में वें घोषणा करते हैं कि “समय समय पर मैं अपने विभिन्न रूपों में लोगों की रक्षा के लिये, पाखंडियों के सर्वनाश के लिये और धर्म की स्थापना के लिये अवतार लेता हूँ”। अंत में ९वें श्लोक में अर्जुन से कहते है “जो मेरे दिव्य जन्मों का ध्यान करते हैं और मेरे दिव्य कार्यों को सही रूप में समझते हैं वे इस संसार से इस जन्म के अन्त में मुक्त होकर मुझे प्राप्त करते हैं”। इससे हम समझ सकते हैं कि ब्रह्म के कई दिव्य रूप हैं जो किसी कर्म के द्वारा बंधा हुआ नहीं है।
  • यह न जानना कि ब्रह्म जिन्हें उभय लिंग विशिष्टान (वह जिसके दो अपूर्व पहचान हो), विलक्षण विग्रह विशिष्टान (वह जिसका अपूर्व रूप हैं), श्रिय:पति (श्रीमहालक्ष्मीजी के स्वामी), अकार वाच्यन (वह जो “अ” से जाने जाते हैं) वह सर्वश्रेष्ठ भगवान है (सभी के उपर) ऐसे पहचाना जाता हैं वह बाधा है। अकार वाच्यन – प्रणवम (ॐ) सभी वेदों का सार है। वह “अ”, “उ” और “म” कार का मिश्रण है। इस अकार में “अ” भगवान श्रीमन्नारायण को सम्भोधित करता है जो सर्वश्रेष्ठ है। सर्वस्माथपरन – वह न कोई इनसे उपर यह उच्च है। उभय लिंग विशिष्टान – वह जिसके २ विशिष्ट पहचान है अकिल हेय प्राथ्यनिकन (वह जो सभी अपवित्र गुणों के विरुद्ध है) और कल्याण गुण पूर्णन (वह जो पवित्र गुणों से भरा हुआ है)। वह सबसे अधिक पवित्र है और सभी को पवित्र करने कि उसमे योग्यता हैं। उसमें दोनों परत्वम् और सौलभ्यम् गुण हैं। अकारम कारणत्वम् (सबका कारण होना) और रक्षकत्वम् (सभी का रक्षक) को अधिक महत्व देता है।
  • यह न जानना कि भगवान श्रीमन्नारायण जगतकारणन हैं (सबके कारण) बाधा है। चांदोज्ञ उपनिषद में समझाया गया हैं कि “सदैव सौम्य! इधमग्र आसीत, एकमेव, अधविधियम”। यही ब्रह्म को सुभाल उपनिषद “एकोहवै नारायण आसित, नब्रह्मा, नेसान:” इस तरह समझाया गया हैं। इससे स्पष्ट है कि भगवान नारायण ही सर्वोच्च कारण है। अनुवादक टिप्पणी: सर्व प्रथम चांदोज्ञ उपनिषद में उद्धालकर अपने बच्चे को समझाते हैं कि श्रुष्टि के पहिले सत ही था और कोई नहीं था। यह ब्रह्म को छोड़ ३ अन्य महत्त्वपूर्ण असहमतियों (सदेव, एकमैव, अदिद्वियम) का वर्णन इस तरह है ३ अलग अलग कारण जैसे कि उपाधान कारण (सांसारिक कारण), निमित्त कारण (सक्षम कारण), सहकारिका कारण (सहयोगी कारण)। उदाहरण के लिये मटकी बनाने के लिये मिट्टी उपाधान कारण है, कुम्हार (और उसकी मटकी बनाने की इच्छा) निमित्त कारण है और लकड़ी, चाक, आदि सहकारिका कारण हैं। सृष्टि के लिये चित्त और अचित्त उपाधान  है – यह ब्रह्म के शरीर हैं। ब्रह्म का संकल्प निमित्त है। ब्रह्म का ज्ञान, शक्ति, आदि सहकारिका हैं। श्रीशठकोप स्वामीजी ने श्रीसहस्रगीति के पाशुर में भी इसी सिद्धान्त को समझाया है कि “वेर मुधलाय वित्ताय्” – वेर (जड़) सहकारी है, मुधल निमित्त है और विथ्थू (बीज) हैं। यहाँ स्वयं भगवान इन ३ कारणों के कारण पहचाने गये हैं। सुभाल उपनिषद में यहीं ब्रह्म नारायण के रूप में पहचाने गये है। वहाँ समझाया गया है कि केवल नारायण का हीं अस्तित्व है और ब्रह्माजी, शिवजी, आदि कोई नहीं हैं। इससे हम यह समझ सकते हैं कि भगवान नायारण हीं सभीके सर्वश्रेष्ठ कारण हैं।
  • वह सिद्धान्त जो बताते हैं कि प्रधानम (माया), परमाणु (अणु) आदिकालीन सिद्धान्त हैं के प्रति भ्रांतिमान होना बाधा है। प्रधानम प्रकृति है अर्थात अचित्त है। मिट्टी स्वयं मटकी नहीं बन सकती है। माया स्वतन्त्र नहीं है और आदिकालीन कारण नहीं है। परमाणु जो एक कारण है उसे कणाधा ने प्रस्तुत किया है। इसे भी स्वीकार नहीं कर सकते है। सर्वेश्वर श्रीमन्नारायण जो इस ब्रह्माण्ड में सर्व व्यापक अन्तरयामि है वही एक मात्र कारण है जिसे “वेर मुधलाय वित्ताय्” में समझाया गया है। इसमे कोई शंखा नहीं होनी चाहिये। अनुवादक टिप्पणी: श्रीपिल्लै लोकाचार्य स्वामीजी ने तत्त्वत्रय के १५३ से १५६वें सूत्र में प्रधानम और परमाणु एक कारण हैं के विचार को अस्वीकार करते है। श्रीवरवरमुनि स्वामीजी इन सूत्रों के लिये एक बहुत ही सुन्दर व्याख्या देते है। परमाणु (अणु) यह कारण है इसे बौद्ध, जैन, वैसेशिका आदियों ने प्रतिपादित किया है। प्रधानम (प्रकृति – अचित्त – माया) यह कारण हैं इन्हे कपिल मुनि ने प्रस्तुत किया है। क्योंकि यह सिद्धान्त श्रृतिके विपरीत हैं और तर्क से परे हैं इसलिये अमान्य हैं।
  • ब्रह्म, शिवजी, आदि (जिनको स्वयं भगवान नारायण ने जन्म दिया है) को परत्व (सर्वश्रेष्ठ), कारणत्व (सभी का कारण) मानना बाधा है। श्रीभक्तिसार स्वामीजी ने नान्मुगन तिरुवन्दादि के पहिले पाशुर में समझाते है “नान्मुगनै नारायणन् पडैत्तान् नान्मुगनुम तान् मुगमायच्चङ्करनै पडैत्तान” – भगवान नारायण ने ब्रह्मा की रचना की है, ब्रह्माजी ने शिवजी की रचना की है। जैसे यहाँ देखा गया है ब्रह्म, रुद्र, आदि देवताओं को भगवान श्रीमन्नारायण ने बनाया है। उनके सर्वोच्चता पर कोई प्रश्न नहीं कर सकता है और न ही वे कारण बन सकते हैं।
  • ब्रह्माजी, विष्णु और शिवजी को बराबर मानना बाधा है। ब्रह्माजी, विष्णु और शिवजी तीनों त्रिमूर्ति ऐसे प्रसिद्ध है। जैसे श्रीसरोयोगी स्वामीजी मुदल तिरुवन्दादि के १५वें पाशुर में समझाते हैं कि “मुदल आवार मूवरे अम् मूवर् उल्लुम् मुदल आवान् मूरि नीर् वण्णन्” – सभी देवताओं को हटाने पर तीन मुख्य देवता होते है। इनमे जिनके शरीर का रंग समुद्र के जल के समान नील वर्ण है वही सर्वश्रेष्ठ हैं। जैसे इस पाशुर में समझाया गया है ब्रह्म (जो निर्माण के कारण है), विष्णु (जिनका भरण पोषण का कार्य है) और शिवजी (जिनका विनाश का कार्य है) तीनों में विष्णु मुख्य भगवान हैं। तीनों बराबर और एक समान नहीं हैं। अनुवादक टिप्पणी: इस पाशुर के व्याख्या में श्रीकलिवैरिदास स्वामीजी इन तीनों के विषय पर केन्द्रित कर दर्शाते हैं। वें कहते हैं कि आल्वार भी इन तीनों देवता के विषय में कहते है ताकि दो को अस्वीकार कर भगवान विष्णु के श्रेष्ठता को दर्शाते हैं। श्रीपिल्लै लोकाचार्य स्वामीजी ने श्रीवचन भूषण दिव्य शास्त्र में अलग अलग प्रकार के अपचार को समझाते हैं। सूत्र ३०३ में भगवद अपचार के विषय में समझते समय वे प्रारम्भ करते हैं कि देवतान्तर को भगवान श्रीमन्नारायण के समान मानना प्रथम अपचार है। श्रीशठकोप स्वामीजी श्रीसहस्रगीति में भी कहते है “ओत्तार् मिक्कारै इलैयाय मा माया” – सर्वोच्च भगवान जिनके न तो कोई बराबर है और न ही उनसे कोई बड़ा है। श्वेतस्थर उपनिषद में भी एक वाक्य ऐसा ही है “न तत समस्च अभ्यधिकस्च दृश्यते”।
  • सर्वरक्षक (भगवान श्रीमन्नारायण) को छोड़ अन्य को रक्षक मानना बाधा है। भगवान श्रीमन्नारायण जो अकार वाच्यन (“अ” का अर्थ) है सभी के रक्षक हैं। वें सभी को आर्शिवाद देते हैं। देवतान्तरों में ऐसी महानता नहीं है। अनुवादक टिप्पणी: श्रीपिल्लै लोकाचार्य स्वामीजी ने विशेषकर “प्रपन्न परित्राणम्” नामक रहस्य ग्रन्थ का लेख किया है। इस ग्रन्थ में उन्होंने स्थापित किया हैं कि भगवान श्रीमन्नारायण हीं रक्षक है और दूसरा कोई हमारी रक्षा नहीं कर सकते हैं। मुमुक्षुप्पड़ी के ३६वें सूत्र में श्रीपिल्लै लोकाचार्य स्वामीजी रक्षकम का अर्थ समझाते हैं। वें समझाते हैं कि रक्षकम का अर्थ बाधाओं का निष्कासन और इच्छाओं की पूर्ति करना। अगले सूत्र में वें समझाते हैं कि बाधाएं और इच्छाएं जीवात्मा के अनुसार बदलती रहती है। संसारीयों के लिये बीमारिया, आदि बाधाएं हैं और अच्छा खाना, सांसारिक सुख, आदि लक्ष्य हैं। मुमुक्षु जिसे मोक्ष कि इच्छा हो उसके इस संसार में रहना हीं बाधा है और परमपद पहूंचकर भगवान का नित्य कैंकर्य करना हीं इच्छा हैं। मुमुक्षु और नित्य सुरियों के लिये कैंकर्य में रुकावट बाधा है और कैंकर्य में वृद्धि इच्छा है। आगे ३९वें सूत्र में समझाते हैं कि “मैंने पहले ही प्रपन्न परित्राणम् में समझा दिया है कि श्रीमन्नारायण के सिवाय अन्य कोई मुक्तिदाता नहीं है”। अत: जो भी बाधाएं हैं वे केवल भगवान श्रीमन्नारायण ही दूर कर सकते हैं ओर जो भी इच्छाएं हैं केवल भगवान श्रीमन्नारायण ही पूर्ण कर सकते हैं। जब कभी मंद बुद्धिवाले देवताओं के पास अपनी इच्छा पूर्ति के लिये जाते हैं तब भगवान ही उन इच्छा को पूर्ण करते हैं जो उन देवताओं के अन्तरयामि में विराजमान हैं।
  • भगवान श्रीमन्नारायण को छोड़ अन्य को अपना स्वामी मानना बाधा है। भगवान श्रीमन्नारायण जो श्रीमहालक्ष्मीजी के दिव्य पति हैं वे ही दोनों नित्य और लीला विभूति के स्वामी है। शेषी का अर्थ स्वामी, मालिक है। अन्य को ईश्वर मानना गलत है। अनुवादक टिप्पणी: श्रीभक्तिसार स्वामीजी के नान्मुगन तिरुवन्दादि के ५३वें पाशुर में देख सकते है कि “तिरुविल्लात देवरै तेरेल्मिन् देवु” – मैं ऐसे देवताओं से सम्बन्ध नहीं रखूँगा जो श्रीमहालक्ष्मीजी से सम्बन्ध नहीं रखते और उन्हें देवता मानते हैं। श्रीपिल्लै लोकाचार्य स्वामीजी मुमुक्षुप्पड़ी में आगे भगवान के रक्षत्वम को समझाते है कि दूसरों कि रक्षा करते समय भगवान हमेशा श्रीमहालक्ष्मीजी के संग है।
  • यह मानना कि परब्रह्म श्रीमन्नारायण को छोड़ अन्य है जिनकी पूजा करनी है, यह बाधा है। मुमुक्षु वह है जो मोक्ष कि इच्छा करता हैं (मुक्ति – परमपदधाम में नित्य कैंकर्य)। मोक्ष केवल भगवान श्रीमन्नारायण हीं प्रदान कर सकते हैं। अन्य कोई भी यह नहीं कर सकता हैं। अत: इन मुमुक्षु को पूर्ण विश्वास होना चाहिये कि सिर्फ भगवान श्रीमन्नारायण के हीं ध्यान मे रहें। अनुवादक टिप्पणी: चांदोग्य उपनिषद कहता है “कारणं तु ध्येय:” – सर्वश्रेष्ठ कारण का हमेशा ध्यान करना चाहिये। यह समझना बहुत महत्त्वपूर्ण है कि यह वाक्य धायन करने के उद्देश को स्थापित करता है लेकिन यह परिभाषित नहीं करता है कि सर्वोच्च कारण कौन है। हम यह देख चुके हैं कि सर्वोच्च कारण भगवान श्रीमन्नारायण हीं हैं। इन दोनों को जोड़ने से सिद्धान्त स्थापित होता हैं – अर्थात सभी को भगवान श्रीमन्नारायण पर हीं ध्यान केन्द्रित करना चाहिये और भगवान श्रीमन्नारायण हीं कारण हैं। इसलिये हमें निरंतर भगवान श्रीमन्नारायण का ध्यान करना चाहिये। एक ओर मुख्य बात हैं कि भगवान श्रीमन्नारायण को हीं “मुकुन्द” कहते है क्योंकि वह मोक्ष प्रदान करते हैं।
  • यह न जानना कि भगवान पुरुषोत्तम को छोड़ दूसरा कोई नहीं है जो किसी की इच्छाओं की पूर्ति कर सके – यह बाधा है। “सर्व अभिमत फल प्रधान” – वह जो सभी तरह की इच्छाएं / अपेक्षाओं की पूर्ति कर सके। देवतान्तर केवल सांसारिक आर्शिवाद प्रधान करते हैं। परन्तु केशव जो परम पुरुष हैं मोक्ष सहित सभी आर्शिवाद देते हैं।
  • क्षुद्र देवताओं कि पूजा करना बाधा है। क्षुद्र – छोटे / तुच्छ। अनुवादक टिप्पणी: देवतान्तर जैसे पहले बताया गया है कि केवल सांसारिक आर्शिवाद प्रधान कर सकते हैं। परन्तु प्रपन्नों के लिये मुख्य लक्ष्य भौतिक इच्छाओं से मुक्त होना और परमपदधाम में भगवान श्रीमन्नारायण का नित्य कैंकर्य करते हुये निवास करना है। भगवद्गीता के ७वें अध्याय में भगवान समझाते हैं कि अन्य देवताओं के सीमित लक्षण हैं उनके आर्शिवाद भी सीमित है। वे स्पष्ट रूप से देवतान्तरों की पूजा को अस्वीकार करते हैं क्योंकि ऐसी पूजा इस संसार में बारम्बार जन्म मरण के चक्कर में डालते हैं।
  • अल्पकालीन तुच्छ पहलूओं की इच्छा रखना बाधा है। अनुवादक टिप्पणी: पहले बताये गये तथ्य की तरह ही है। प्रपन्नों को चाहिये कि वे अल्पकालीन और तुच्छ पहलूओं में रुचि न रखें और परमपदधाम में भगवान श्रीमन्नारायण का नित्य कैंकर्य को महत्त्व दें।

-अडियेन केशव रामानुज दासन्

आधार: http://ponnadi.blogspot.com/2014/09/virodhi-pariharangal-38.html

संग्रहण- https://srivaishnavagranthamshindi.wordpress.com

प्रमेय (लक्ष्य) – http://koyil.org
प्रमाण (शास्त्र) – http://granthams.koyil.org
प्रमाता (आचार्य) – http://acharyas.koyil.org
श्रीवैष्णव शिक्षा/बालकों का पोर्टल – http://pillai.koyil.org

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s