अन्तिमोपाय निष्ठा – ७ – श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) का वैभव १

श्री: श्रीमते शठकोपाय नमः  श्रीमते रामानुजाय नमः  श्रीमद्वरवरमुनये नमः श्री वानाचल महामुनये नमः

अन्तिमोपाय निष्ठा

<< भगवान् के ऊपर आचार्य की उच्च स्थिति

पिछले लेख (अन्तिमोपाय निष्ठा – ६ – भगवान के ऊपर आचार्य की उच्च स्थिति) में हमने देखा कि हमारे पूर्वाचार्यों के जीवन में घटित कई घटनाओं के माध्यम से कि आचार्य कैङ्कर्य / अनुभव भगवत कैङ्कर्य / अनुभव से अधिक है। हम इस लेख में हमारे पूर्वाचार्यों के साथ घटित कई घटनाओं का क्रम जारी रखेंगे।

श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) तिरुवल्लिक्केणि

हमारे जीयर् (मामुनिगळ्) निम्नलिखित घटना को अक्सर याद करते हैं। एक बार, अपने शिष्यों के साथ श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै), नाचियार् का मङ्गळाशासन करने के लिए तिरुवेळ्ळरै की यात्रा कर वापस श्रीरंगम लौट रहे हैं। उस समय, कावेरी नदी में जल प्रवाह बाढ़ के प्रभाव से बढ़ जाती है। नदी पार करने इच्छुक श्रीकलिवैरिदास जी (नम्पिळ्ळै) को उचित नाव दिखा नहीं अतः वह सभी एक छोटी सी बेड़ा पर चढ़ गए। सूर्यास्त के कारण अंधेरापन छा गया और तदनन्तर बारिश भी शुरू हो गयी इसलिए मांझी को बेड़ा का नियंत्रन करना मुश्किल हो जाता है क्योंकि यह डूबने लगती है। मांझी कहता है, “इस स्थर पर, अगर कुछ लोग बेड़ा से कूदते हैं, तो हम सुरक्षित रूप से गम्यमार्ग तक पहुंच सकते हैं। अन्यथा, श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) सहित हर कोई नदी में डूब जाएगा”। डूबने के डर के कारण, कोई भी बेड़ा से कूदने को तैयार नहीं था। मांझी के इस सुझाव को सुनकर भागवत-निष्ठा स्थर में पूर्णतया स्थित महिला मांझी को आशीर्वाद देती है और कहती है “हे मांझी ! आपकी दीर्घायु हो ! कृपया सुनिश्चित करें कि श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै), जो पूरी दुनिया का जीवन हैं, सुरक्षित रूप से नदी के किनारे तक पहुंचें” और इस बेहद अंधेरेपन के बावजूद, “नम्पिळ्ळै तिरुवडिगळे शरणम्” कहते हुए बेड़ा से कूदती हैं । बेड़ा क्षणिक श्रीरंगम सुरक्षित रूप से पहुंचता है। श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) महिला के अप्रत्याशित निधन की वजह से बहुत परेशानी महसूस करते हैं। लेकिन, जब महिला बेड़ा से कूद जाती है, तो वह एक छोटे से द्वीप पर उतर जाती है। श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) के दुखःद शब्दों को सुनकर वह द्वीप से चिल्लाती है “स्वामी! चिंता मत करें। मैं अभी भी जिंदा हूं”। श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) ने विचार किया के महिला को बचाया जाना चाहिए अतः मांझी को उसे वापस लाने के लिए भेजते हैं। वह सुरक्षित रूप से आती है और श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) के चरणकमलों पर झुकती है। चूंकि वह पूरी तरह से आचार्य-निष्ठा में शालीन है, वह पूछती है, “जब मैं डूब रही थी, तो क्या आपने द्वीप का रूप लिया और मुझे बचाया?”। श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) जवाब देते हैं, “यदि आपका विश्वास है, तो यहि मामला बनें”।

एक वैष्णव राजा ने एक बार श्रीवैष्णव की एक बड़ी भीड़ को देखा और पूछा, “क्या वे श्री रंगनाथ् (नम्पेरुमाळ्) की पूजा करने के बाद या श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) का व्याख्या सुनने के बाद बाहर आ रहे हैं?”। श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) की गौरवशाली श्रीवैष्णवश्री (दिव्य संपत्ति) इस तरह की थी। एक बार, एक महिला जो श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) की शिष्य है, ने श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) के तिरुमाळिगै (निवास) के बगल में एक घर खरीदा। एक अन्य श्रीवैष्णव (इस महिला की एक शिष्य और सह-साथी श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) के कालक्षेप गोष्ठी में) जो एक ही घर में रह रहे थे (किराए पर)। वह महिला को कई बार सलाह देती है “श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) का निवास छोटा सा है। यह अच्छा होगा अगर आपने अपने घर को हमारे आचार्य के लिए पेश किया”। वह कहती रहती है, “श्रीरंगम में इस तरह का एक अच्छा घर किसको मिलेगा, मैं इसे अपने जीवन के अंत तक रखूंगी”। यह श्रीवैष्णवी महिला इसे श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) को सूचित करती है। श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) उसे बताते हैं “रहने के लिए आपको बस एक अच्छी जगह चाहिए? कृपया अपना घर मुझे दे दो ताकि सभी श्रीवैष्णव आराम से वहां रह सकें”। श्रीवैष्णवी महिला ने जवाब दिया “ठीक है, मैं यह करूँगी। लेकिन आपको मुझे परमपद में एक जगह देना होगा”। श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) कहते हैं “दिया”। वह कहती है, “मैं बहुत दयालु महिला हूं। मैं सिर्फ आपके शब्दों पर भरोसा नहीं कर सकती। कृपया मुझे इसे लिखके दें”। श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) महिला के आचार्य निष्ठा से बहुत खुश हुए और एक ताड़पत्र में लिखते हैं कि “इस वर्ष / महीने / दिन, तिरुक्कलिकन्ऱि दास इस महिला को परमपद में एक जगह देता हैं। श्रीवैकुण्ठनाथ अपनी दया से इस लेनदेन को पूरा करें”। वह उस दस्तावेज़ को स्वीकार करती है, खुशी से तीर्थ और प्रसाद का उपभोग करती है। वह अगले कुछ दिनों के लिए श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) की पूजा करती रहती है और तीसरे दिन परमपद चली जाती है। इस प्रकार, हमारे जीयर् कहते हैं, “दोनों नित्य विभूति (परमपद – आध्यात्मिक दुनिया) और लीला विभूति (संसार – भौतिक संसार) आचार्य के नियंत्रण/वश्य में हैं”।

श्रीकूरेश (कूरत्ताऴ्वान्) के पोते मध्यवीधि भट्टर् (नडुविल् तिरुवीधि पिळ्ळै भट्टर्) ने श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) के ज्ञान, भक्ति, वैराग्य, और उनकी गोष्टी में शिष्यों और भागवतों की भरमार, की स्वीकृति आदि की सराहना नहीं की थी। वह हमेशा श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) के साथ कठोर व्यवहार कर रहे थे। एक बार वह राजा की सभा में जा रहे नडुविल् तिरुवीधि पिळ्ळै भट्टर् रास्ते मे पश्चात् सुन्दर देशिक (पिन्भऴगिय पेरुमाळ् जीयर्) से मिलते हैं। उन्होंने जीयर् को उनसे जुड़ने के लिए आमंत्रित किया और जीयर बाध्य होकर शामिल हो गए। राजा के राजमहल पहुंचने पर राजा ने उनका स्वागत किया और सम्मान देकर उन्हें अपनी बड़ी सभा में बैठने का आग्रह किया। चूंकि राजा शास्त्रों के ज्ञान मे प्रज्ञ एवं बुद्धिमान हैं अतः भट्टर् के ज्ञान की जांच करने हेतु वह भट्टर् से पूछते हैं “श्रीमान् ! श्री राम ने घोषणा की कि वह सिर्फ दशरथ के पुत्र हैं और एक इंसान है (पूरी तरह से अपने परत्व – सर्वोच्चता को छुपा रहा हैं ), लेकिन जटायु को मोक्ष का आशीर्वाद कैसे देते हैं? “। जबकि मध्यवीधि भट्टर् (नडुविल् तिरुवीधि पिळ्ळै भट्टर्) इसके लिए सबसे अच्छा जवाब सोच रहे हैं, राजा कुछ प्रशासनिक कार्यों से परेशान हो जाता हैं। मध्यवीधि भट्टर् (नडुविल् तिरुवीधि पिळ्ळै भट्टर्) जीयर् से पूछते हैं “जीयर् ! तिरुक्कलिकन्ऱि दास कैसे सम्झाएगे पेरूमाळ् (श्रीराम) ने जटायु को मोक्ष दिया?” और जीयर् ने जवाब दिया “श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) इस सिद्धांत को प्रतिबिंबित करते हैं ‘सत्येन लोकन् जयति’ (सच्चा व्यक्ति सभी दुनिया जीत सकता है)”। तब भट्टर् उस पर विचार करते हैं और इसे सर्वोत्तम स्पष्टीकरण के रूप में स्वीकार करते हैं। राजा लौटते हैं और पूछते हैं “भट्टर्! आपने अभी भी जवाब नहीं दिया है” और भट्टर् जवाब देते हैं “आप अन्य चीजों को देख रहे थे। कृपया ध्यान से ध्यान दें और मैं आपको यह समझाऊंगा”। राजा बाध्य होते हैं और भट्टर् पूर्ण रामायण श्लोक बताते हैं कि सच्चा व्यक्ति सभी संसारों को नियंत्रित करेगा और श्रीराम सच्चाई का प्रतीक हैं, उन्होंने परमपद के साथ जटायु को मोक्ष दिया। राजा स्पष्टीकरण सुनकर उत्साहित हो जाते हैं और कहते हैं, “मैं स्वीकार करता हूं कि आप सबकुछ जानते हैं”। फिर वह भट्टर् को बहुत सारे मूल्यवान कपड़े, गहने और धन का महान सम्मान देते हैं। राजा भट्टर् के सामने नीचे झुकता हैं और उन्हें एक भव्य विदाई देते हैं। भट्टर् सभी संपत्ति स्वीकार करते हैं और जीयर् को महान इच्छा के साथ बताते हैं “जीयर् ! कृपया मुझे श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) के पास ले जाएं क्योंकि मैं खुद को और इन सभी संपत्तियों को श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) के चरणकमलों मे पेश करना चाहता हूं”। जीयर भट्टर् को श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) के पास लाता हैं। श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै), मध्यवीधि भट्टर् (नडुविल् तिरुवीधि पिळ्ळै भट्टर्) को देखकर जो अपने परमाचार्य (आचार्य के आचार्य पराशर भट्टर्) के वंश में आते हैं उसे खुशी से स्वागत करते हैं। उनके सामने रखी गई सारी संपत्ति को देखते हुए, वह पूछते हैं “ये क्या हैं?” और भट्टर् जवाब देते हैं “यह आपके हजारों और हजारों दिव्य शब्दों के कुछ शब्दों के लिए इनाम है – इसलिए आपको मुझे और इन संपत्तियों को स्वीकार करना होगा और मुझे अपने शिष्य के रूप में स्वीकार करना होगा”। श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै)  कहते हैं, “यह सही नहीं है। आप श्री कुरेश (आऴ्वान्) (इस तरह के महान वंश में आने) के पोते होने के नाते, मुझे आचार्य के रूप में स्वीकार नहीं कर सकते हैं। भट्टर् श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै)  के चरणकमलों पर झुकता हैं और रोना शुरू करते हैं और जवाब देते हैं “राजा, जो नित्य संसरी है, आपके कुछ दिव्य शब्दों के लिए इतनी धनराशि प्रदान करने में सक्षम था। अगर ऐसा है, तो मुझे आपके पास कितना धन जमा करना चाहिए आऴ्वान् की वंशावली में? न केवल, मैं आपको इतने लंबे समय तक अनदेखा कर रहा था, यहां तक ​​कि में आप के अगला दरवाजा में था, लेकिन मैं भी आपके बारे में ईर्ष्या महसूस कर रहा था। इसलिए, मैं अब आपको कृतज्ञता दिखाने के लिए खुद को पेश करने के अलावा कुछ भी नहीं कर सकता हूं, कृपया मुझे स्वीकार करें “। श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) ने बड़े स्नेह के साथ भट्टर् को खींच लिया, उसे गले लगा लिया और उसे आशीर्वाद दिया। उसके बाद वह सब कुछ सिखाना शुरू कर देते हैं और भट्टर् हर समय श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) के साथ महान कृतज्ञता और खुशी से रहता है।

श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) कालक्शेप गोष्ठी

फिर, श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) ने तिरुवाय्मोऴि को पूरी तरह से विस्तृत तरीके से मध्यवीधि भट्टर् (नडुविल् तिरुवीधि पिळ्ळै भट्टर्) को समझाया। भट्टर् उन्हें सावधानी से सुनते हैं और सब कुछ दस्तावेज करते हैं और श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) के कमल के चरणों में ताड़पत्र को प्रस्तुत करते हैं। श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै पूछते हैं “यह क्या है?” और भट्टर् जवाब देते हैं “यह आपके द्वारा समझाया गया तिरुवाय्मोऴि का अर्थ है”। श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) ताड़पत्र की गठरी को खोलते हैं और यह देखते हैं कि महाभारत के आकार में यह विशाल है – १२५००० अनुदान। वह बहुत चिंतित हो जाते हैं और भट्टर् से पूछते हैं “आपने मेरी अनुमति के बिना यह क्यों लिखा और इतनी बड़ी जानकारी में स्वतंत्र रूप से तिरुवाय्मोऴि के आंतरिक अर्थों को प्रकट किया?” और भट्टर् जवाब देते हैं “सब कुछ आपके द्वारा समझाया गया है, मैंने अपना विराम चिह्न भी नहीं जोड़ा है – कृपया देखें”। श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै कहते हैं, “आपने जो भी लिखा है, मैंने तिरुवाय्मोऴि के बारे में जो कुछ भी समझाया है, वह लिखा होगा – लेकिन में जो सोच रहा हूं उसके बारे में आप कैसे लिख सकते हैं? श्रीरामानुज (उडयवर्) के समय के दौरान, श्री कुरुगेश  (पिळ्ळान् (तिरुक्कुरुगैप्पिरान् पिळ्ळान्)) ने ६००० पडि लिखने के लिए श्री रामानुज (उडयवर्) के आशीर्वाद और अनुमति प्राप्त करने के लिए बहुत मेहनत की। लेकिन यहां, आपने मेरी अनुमति के बिना १२५०००  पडि लिखी है और इस तरह के विस्तृत व्याख्या जो शिष्यों को उनके आचार्य के चरणकमलों के नीचे सीखने से हतोत्साहित करेंगे “। फिर वह ताड़पत्र पर पानी डालते हैं और उन्हें समाप्त करने के लिए दीमक को खिलाते हैं और अंत में वे नष्ट हो जाते हैं।

इसके बाद, श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) ने पेरियवाच्चान् पिळ्ळै को निर्देश दिया जो उनके प्रिय शिष्य हैं और जिन्होंने उनसे सबकुछ सीखा, तिरुवाय्मोऴि के लिए व्याख्यान लिखने के लिए वह श्रीरामायण के आकार में २४००० पडि लिखते हैं। उसके बाद, श्रीकृष्णपाद (वडक्कु तिरुवीधि पिळ्ळै), जो श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) के एक और करीबी विश्वासी हैं, ने एक बार तिरुवाय्मोऴि कालक्षेप को सुबह में श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) से सुना और रात में इसे दस्तावेज किया और श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) के कमल पैरों पर प्रस्तुत किया। श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) पूछते हैं “यह क्या है?” और श्रीकृष्णपाद (वडक्कु तिरुवीधि पिळ्ळै) जवाब देते हैं, “यह तिरुवाय्मोऴि व्याख्या है जैसा कि आपसे इस समय सुना है”। श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) उनके माध्यम से जा रहे हैं और यह देखते हैं कि यह न तो बहुत विस्तृत और न ही बहुत संक्षिप्त और बहुत खूबसूरत रूप से श्रृत प्रकाशिक  (श्री भाष्य व्याख्यान) के आकार में दस्तावेज – ३६००० पडि है। बहुत खुशी के साथ, श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) कहते हैं, “आपने इसे बहुत अच्छी तरह से दस्तावेज किया है, फिर भी जब से यह मेरी अनुमति के बिना लिखा गया था, तो आप इसे मेरे पास सौंप दें” और उसे अपने साथ रखते हैं। उसके बाद वह व्याख्यान को माधवाचार्य (ईयुण्णि माधव पेरुमाळ्) को देते हैं जो उनके प्रिय शिष्य हैं। इस घटना को हमारे जीयर द्वारा उपदेश रत्न माला ४८ वें पासुरम् में समझाया गया है।

शीरार् वडक्कुत् तिरुवीधिप् पिळ्ळै
एऴुत्तेरार् तमिऴ् वेदत्तु ईडु तनैत्
तारुम् एन वान्ग्कि मुन् नम्पिळ्ळै
ईयुण्णि माधवर्क्कुत् ताम् कोडुत्तार् पिन् अदनैत् तान्

सरल अनुवाद: श्रीकृष्णपाद (वडक्कु तिरुवीधि पिळ्ळै) जो शुभ गुणों से भरे हुए हैं, ने ३६००० पडि ईडु व्याख्या लिखा है जैसा कि श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) से सुना था। श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) ने उन से लिया और माधवाचार्य (ईयुण्णि माधव पेरुमाळ्) को दिया।

इसके अलावा, तिरुवाय्मोऴि और उनकी महिमा के लिए सभी व्याख्यानों को स्पष्ट रूप से श्री वरवरमुनि (मामुनिगळ्) द्वारा प्रकाशित है।

इस प्रकार, श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) ने इस दुनिया में जन्म लिया और कई लंबे समय तक कई जीवात्माओं का उत्थान किया और अंततः परमपद पर चले गए। चरम कैङ्कर्य के हिस्से के रूप में, उनके सभी शिष्य अपने सिर मुंडवाते हैं। मध्यवीधि भट्टर् (नडुविल् तिरुवीधि पिळ्ळै भट्टर्) के भाई उनसे पूछते हैं, “क्या यह हमारे कूर कुल (श्री कुरेश (आज़्ह्वान्) के परिवार वंश) के लिए शर्मनाक नहीं है क्योंकि आपने तिरुक्कलिकन्ऱि दास के लिए अपना सिर मुंडवाया है जो  परमपद जा चुके हैं?”। भट्टर ने जवाब दिया “ओह! मैंने अब आपके परिवार को शर्मिंदा किया!”। उनके भाई ने पूछा, “व्यंग्यात्मक क्यों हो रहे हैं?”। भट्टर् जवाब देते हैं, “जब श्री कलिवैरि दास (नम्पिळ्ळै) परमपद गए, क्योंकि मैंने उनके चरणकमलों का आश्रय लिया है, क्योंकि मैं कुरा कुल में पैदा हुआ हूं, श्री कुरेश (आऴ्वान्) की महान गुणवत्ता शेषत्व (अपने आचार्य की ओर पूर्ण दासता) पर विचार करते हुए, मुझे अपना चेहरा और शरीर मुंडवाना चाहिए था जैसे नौकर करते हैं। लेकिन मैंने केवल वही किया है जो शिष्य करते हैं – सर मुंडवाया – जो वास्तव में श्री कुरेश (आऴ्वान्) की दासता की प्रकृति को पूरा नहीं करने के लिए शर्मनाक है “। तब उसका भाई भट्टर् से पूछता है “अब जब आपके तिरुक्कलिकन्ऱि दास आपको छोड़ दिया है, तो आप उनके प्रति कब तक आभार मानेंगे?” और भट्टर् जवाब देते हैं, “जब तक यह आत्मा का अस्तित्व है, मैं हमेशा के लिए श्रीकलिवैरिदास (नम्पिळ्ळै) के प्रति आभार मानूंगा”। उनके भाई तब उन शब्दों के अर्थ को महसूस करते हैं क्योंकि वह पहले से ही एक महान विद्वान थे और एक विवाहित परिवार में पैदा हुआ थे। हमारे जीयर् कहते है, “फिर वह खुद को भट्टर् के चरणों मे डाल देता है और भट्टर् से सभी आवश्यक सिद्धांतों को सीखता है”।

जब कुछ श्रीवैष्णव ने दूसरों से पूछा, “श्रीभाष्य कैसा दिखता है?” और उन्होंने जवाब दिया “नडुविल् तिरुवीधि (मध्य सड़क – श्रीरंगम में सड़कों में से एक) में, श्री कूरेश (कूरत्ताऴ्वान्) नाम के एक व्यक्ति है जो सुंदर वेष्टि (धोती) (नीचे का कपड़ा) और उत्तरीय (ऊपरी कपड़ा) पहनते हैं। अगर आप उस सड़क पर जाते हैं, तो आप देखेंगे श्रीभाष्य घूम रहे हैं “। कुछ श्रीवैष्णव पूछते हैं, “हम भगवद्विषय कहां सुन सकते हैं?” और उन्होंने जवाब दिया, “नडुविल् तिरुवीधि (मध्य सड़क) में सबसे अधिक पके हुए फलों के साथ एक बहुत प्यारा पेड़ है जिसका नाम भट्टर् है। यदि आप वहां जाते हैं, और पत्थरों को फेंकने के बजाए पेड़ के नीचे रहते हैं, तो भगवद्विषय के पके हुए फल स्वाभाविक रूप से आप पर गिरेंगे।”

जब पराशर भट्टर् बहुत छोटे थे और सड़कों पर खेल रहे थे, तो “सर्वज्ञ” नामक एक विद्वान/पण्डित अपने दोला पर बहुत धूमधाम के साथ आता है। भट्टर् उसे रोकते हैं और उससे पूछते हैं “क्या आप सबकुछ जानते हैं?” और वह कहता है “हाँ, मुझे सबकुछ पता है”। भट्टर् जमीन से धूल के मुट्ठी भर उठाते हैं, उसे दिखाते हैं और पूछते हैं “यह कितना है?”। वह शब्दों के लिए खो गया था और सिर्फ शर्म से बाहर अपने सिर लटका दिया। तब भट्टर् कहते हैं, “अपने सभी खिताब और पदक छोड़ दो” और वह अपनी हार को स्वीकार करता है। तब भट्टर् कहते हैं, “आप बस इतना कह सकते थे कि यह धूल ‘हाथ भर मुट्ठी’ है और आपके खिताब और पदक संरक्षित कर सकते थे! लेकिन अब आप उन्हें खो चुके हैं – ताकि आप जा सकें” और उसे एक तरफ धक्का देते हैं।

पाषण्डी (मायावाद)  विद्वान एक (वैष्णव) राजा के पास जाते हैं और घोषणा करते हैं कि शंख / चक्र लाञ्चन के लिए कोई सबूत नहीं है (पञ्च संस्कार के हिस्से के रूप में गर्म शंख / चक्र के साथ किसी के कंधे को चिह्नित करना)। राजा सबसे बुद्धिमान भट्टर को आमंत्रित करता है और उनसे पूछता है, “क्या शंख / चक्र लाञ्चन के लिए सबूत है?” और भट्टर कहते हैं, “ज़रूर, है”। राजा पूछता है “क्या आप इसे मुझे दिखा सकते हैं?” और भट्टर अपने स्वयं के सुंदर कंधे दिखाते हैं और कहते हैं, “यहां देखें, मेरे पास दोनों कंधों में है”। राजा ने बहुत खुशी के साथ स्वीकार किया और घोषणा की कि “भट्टर्, जो सभ जानते हैं, इस शंख / चक्र लाञ्चन है, वह स्वयं पर्याप्त प्रमाण है” और पाषण्डी (मायवाद) को हटा देता है।

उपरोक्त घटनाओं को हमारे बुजुर्गों ने समझाया है। इस प्रकार श्रृति व्याख्यान (शंख / चक्र लाञ्चन से संबंधित) और भट्टर् द्वारा लिखे गए निम्नलिखित दो पासुरम् / श्लोक बहुत लोकप्रिय हो गए।

मट्टविऴुम्पोऴिल् कूरत्तिल् वन्दुतित्तु
इव्वैयमेल्लाम् एट्टुमिरण्डुम् अऱिवित्त एम्पेरुमान्
इलन्गु चिट्टर् तोऴुम् तेन्नरङ्गेशर् तम् कैयिल् आऴियै
नानेट्टन निन्ऱ मोऴि एऴुपारुम् एऴुतियते

सरल अनुवाद: चूंकि मेरे पास श्री रंगनाथ के शंख (और चक्र) के छाप हैं जिनकी पूजा कूरेश (कूरत्ताज़्ह्वान्) ने की थी, जो कूरम में दिखाई दिए थे और तिरुमन्त्र और द्वय के अर्थों को समझाते थे, यह पूरी दुनिया को स्वीकार करने और पालन करने का सबूत बन गया।

विदानतो ददानः स्वयमेनाम् अपि तप्तचक्रमुद्राम्
भुजयेवममैव भूसुराणाम् भगवल्लाञ्चन धारणे प्रमाणम्

सरल अनुवाद: तथ्य यह है कि मेरे कंधों पर इन शंख / चक्र हैं, स्वयं ही श्री वैष्णव को स्वीकार करने और उसका पालन करने का सबूत है।

इन घटनाओं से, हम समझ सकते हैं कि चूंकि हमारे सभी पूर्वाचार्यों ने अपने आचार्य की कृपा का आश्रय लिया, चाहे अज्ञानी या विद्वान, किसी को अपने उत्थान के लिए अपने आचार्य पर निर्भर रहना पड़ेगा।

जारी रहेगा…

अडियेन भरद्वाज रामानुज दासन्

आधार – https://ponnadi.blogspot.com/2013/06/anthimopaya-nishtai-7.html

प्रमेय (लक्ष्य) – http://koyil.org
प्रमाण (शास्त्र) – http://granthams.koyil.org
प्रमाता (आचार्य) – http://acharyas.koyil.org
श्रीवैष्णव शिक्षा/बालकों का पोर्टल – http://pillai.koyil.org

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s