वरदराज भगवान् आविर्भाव कि कहानी १० – २

श्रीः श्रीमते शठकोपाय नमः श्रीमते रामानुजाय नमः श्रीमद्वरवरमुनये नमः

वरदराज भगवान् आविर्भाव कि कहानी

<< भाग १० – १

मुकुंध नायकन वेलुकै के भगवान का शीर्षक है, जो सिंह और मनुष्य का मिश्रण है। मुकुंद का अर्थ है कि जो सांसारिक जीवन की व्याधी (रोग) से मुक्त होने के लिए मोक्ष या मुक्ति प्रदान करते हैं (संसार)। वह सर्वरोगहारी, अमृत, उपाय है।

हिरन्य वध के उपरांत, भगवान ने  विश्राम करने के लिए जगह की तलाश की। यह जगह (तिरुवेळ् इरुकै) उनकी रुचि और पसंद थी। यही कारण है कि वे आज भी यहां स्थित हैं।

नरसिम्ह अवतार…..

उन्होंने यह भूमिका धारण किया था प्रहलाध (असुर पुत्र) को अभय देने के लिए । ब्रह्मा ने वर प्रदान (हिरन्य को) किया था। भगवान ब्रह्मा के शब्दों को सम्मान देना चाहते थे और सिर्फ इस कारण, वह स्तंभ से उभरे और हिरन्य का वध किया।

उन्होंने क्या व्याकुलता और चिंता प्रदर्शित किया कि ब्रह्मा के शब्द झूठा और असफल प्रदर्शित न हो!

उनके अवतारों को समझने के लिए कई कारणों की प्रस्तुती की गयी है। कृष्ण ने स्वयं गीता में सूची दिए हैं कि “साधु की रक्षा करने के लिए, दुष्ट का नाश करने, धर्म परिरक्षण और पोषण करने (सत्यनिष्ठा और धर्म)”, वह धरती पर उतरते हैं। यह उनके मुख से निकले शब्द हैं।

धर्म स्थापना क्या है?

अगर हम यह जानना चाहते हैं, तो हमें सबसे पहले समझना होगा कि धर्म क्या है।

श्री पराशर भट्टर के अनुसार, धर्म एक नैतिक सदगुण / सदाचार है, धार्मिक और उत्कृष्टता है।

इस कारण से  लगता है कि वह अपने असंख्य गुणों का अनावरण करने के लिए अवतार लेते हैं।

“अजायमान: बहुध विजायते” – वेद घोषित करते है I अर्थात, “वोह अजन्मा, कई तरीकों से पैदा हुआ है”। (“वे अजन्म है, कई तरीकों में जन्में हुए”) I

हम अपने कर्म (भाग्य और कर्म) के परिणाम स्वरूप जन्म लेते है। हम से भिन्न, वह कर्म परिणाम स्वरुप से नहीं जन्म लेते हैं। फिर भी वह स्वयं कि इच्छा से और हमारे प्रति प्रेम और चिंता के कारण जन्म लेते है।

“इच्छा गृहीतोपिमधोर देह:” –  विष्णु पुराण के अनुसार, प्रत्येक अवतार का अर्थ उनके गुणों में से एक को प्रकट करने के लिए है I

(साधारणता से हम हर अवतार में उनकी सभी गुणों को देख सकते हैं। लेकिन विशेष रूप से उनकी अनूठी विशेषताओं में से एक, एक अवतार में विशिष्ट रूप से प्रकाशित होती है)

नरसिम्ह अवतार में, उनके सर्वव्यापी पन (हर जगह मौजूद, भीतर और बाहर, कोई शून्य नहीं छोड़कर) प्रदर्शित किया गया है।

वह उपनाम “अन्तर्यामी” द्वारा भी जाने जाते हैं। वह हमारे भीतर रहते हैं और हमारे कार्यों को नियंत्रित  और क्रियात्मका रूप में लाते है।

वेद भी पुष्टि करता है “अंतर बहिश्च तथा सर्वम व्याप्य नारायण स्तिता:” –  वह पूरी जगह में फैले हुए है, अन्तर्गत और अतिरिक्त, सर्व व्यापि होके ।

यह अनूठी विशेषता हमें नरसिम्हावतार में प्रबुद्ध होता हैं। प्रहलाद ने भगवान की विशेषता और इस पहलू को “तून्नीलम इरुप्पान तुरुम्बिलुम इरुप्पान” के रूप में घोषित किया (वे स्तम्भ के भीतर रहते है एक क्षुद्र अंश में भी ) – यह इतनी सरलता से दिया गया है कि एक बालक को भी सुस्पष्ट होगा I

आळवार इस विचार की पुष्टि करते हुए कहते है कि “एन्गुमुलान कन्ननेरा मगनायक कायन्तु” –  अत्याचारी के पुत्र ने प्रमाणित किया कि किर्ष्ण हर जगह हैंI

हमारी अवधारणा से परे सिंहपेरुमाल की महिमा नहीं है?

वेलुकै आलरि (नर – सिंह सम्मिश्रण ) जो वेल्वी का रक्षा के किये आये थे ब्रह्मा को भी सुरक्षित करदिया असुरों का संहार करके I

ब्रह्मा ने अपनी तपस्या जारी रखी।

सरस्वती, अपमानित और असुरों द्वारा दूषित एक और योजना की कल्पना की। वह योजना क्या थी?

खोजने के लिए प्रतीक्षा करें …

अडियेन श्रीदेवी रामानुज दासी

Source – https://srivaishnavagranthams.wordpress.com/2018/05/19/story-of-varadhas-emergence-10-2/

archived in https://srivaishnavagranthams.wordpress.com/

pramEyam (goal) – http://koyil.org
pramANam (scriptures) – http://granthams.koyil.org
pramAthA (preceptors) – https://guruparamparai.wordpress.com
SrIvaishNava Education/Kids Portal – http://pillai.koyil.org

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s